बसंत ने फिज़ाओ में प्यार घोल दिया है हर दिल इस वक़्त प्यार के खुमार में गुम है
यही प्यार हमारी हिंदी फिल्मों की जान है ।

चाहे “दिल”फ़िल्म का राजा और मधु हो जो अपने कंजूस पिता की वजह से अलग हो जाते है पर राजा और मधु के प्यार के आगे जालिम दुनिया को झुकना ही होता है
और दो दिल गाने लगते है” न जाने कहा दिल खों गया”

यही प्यार जब “जान तेरे नाम” के सुनील को पिंकी से होता है तो पूरा कॉलेज प्यार में गुम हो गाने लगता है ” माना कि कॉलेज में पढ़ना चाहिए रोमांस का भी एक लेक्चर होना चाहिए”

जब प्यार अपने समय को पार करता हुआ साजन के अमन और पूजा को गीतों में मिलाता है तो पूजा कह उठती है”तू शायर है में तेरी शायरी”

प्यार के मौसम में दिलो को सिर्फ प्यार का बहाना चाहिए और नगमे उनका जरिया बन जाता है

प्यार दूरियां नही देखता ये “सिर्फ तुम” के दीपक और आरती के बीच हजारो किलोमीटर की दूरियों में भी फूल खिला उठता है और “पहली पहली बार मोहब्बत ”
हो ही जाती है

प्यार भी इतना अजीब है कि वो जात पात नही देखता उसको न जोधा अकबर की हिन्दू जोधा और मुस्लिम अकबर दिखता है और न ही बॉम्बे फ़िल्म के शेखर और शैलबानो में धर्म देखता है उन्हें सिर्फ दिखता है “तुही रे तेरे बिना में कैसे जियूँ’

प्यार का जिक्र हो और प्यार के महारथी यश चोपड़ा और शाहरुख खान को नही भुलाया जा सकता जिन्होंने ddlj में सभी को बाहें खोल कर प्यार करना सीखा दिया और हर दिल कहने लगा कि “तुझे देखा तो ये जाना सनम”

आए इस नफरत से भरी दुनिया मे इस बसंत सिर्फ प्यार खोजे जिससे हमारे जीवन का उद्देश्य सही साबित हो
दुनिया को नफरत से प्यार बचा पाएगा
तो इस वेलेंटाइन आए और जो आपके लिए वेरी स्पेशल है उन्हें बताए कि आप उन्हें कितना प्यार करते हो
हैप्पी वैलेंटाइन डे

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here