बेकाबू गर्मी को करे काबू

0
439
बेकाबू गर्मी को करे काबू
बेकाबू गर्मी को करे काबू

तेज धूप और तपा देने वाली गर्मी ने लोगों का जीना मुहाल किया हुआ है. लोगों का मौसमी बीमरियों ने चपेट में ले लिया है. मौसम विभाग की मानें तो गर्मी का ऐसा ही प्रकोप पूरी मई तक रहेगा. अब इस बेकाबू गर्मी को कैसे काबू में करें ये बात समझ नहीं आती, तेज धूप व गर्मी का प्रभाव हमारी त्वचा, आँखों और शरीर के लगभग सभी अंगों पर पड़ता है. पानी की कमी से गला व होंठ सूखने लगते हैं. पानी व नमक की कमी होने से डी-हाइड्रेशन भी बढ़ सकता है. चेहरा मुरझाया सा और शरीर सुस्त हो जाता है.

हम सभी को जलती हुई सूर्य किरणों का अनुभव होता है जो बदले में शरीर की गर्मी को बढ़ाता है. शरीर के उच्च तापमान पर यह एक्सपोजर हमारे लिए बिल्कुल अच्छा नहीं है और शरीर में गर्मी का तनाव पैदा कर सकता है.

आपके शरीर में बढ़ सकती है गर्मी

शरीर का सामान्य तापमान 36.5-37.5 डिग्री सेल्सियस होता है. जब आप गर्मी(धूप) या उच्च तापमान के संपर्क में आते हैं, तो शरीर ठंडा होने की वजह से और गर्मी या धुप का तापमान अधिक होने से जब यह सामान्य शरीर के तापमान में प्रवेश करता है तो यह बॉडी के लिए हानिकारक होता है.

इससे आपकी बॉडी में पानी की कमी होने लगती है जिससे यह हीट स्ट्रोक का कारण बन सकता है. शरीर की गर्मी में वृद्धि के कारण, हमारे शरीर को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है जो कई बीमारयों का कारण बन सकता है, कभी-कभी शरीर की गर्मी के सही लक्षणों की पहचान करना मुश्किल हो जाता है.

कहते हैं ना गर्मी बढ़ गयी है, मेरी बॉडी में. तो कैसे पहचाने की आपकी बॉडी में गर्मी बढ़ गयी है?
  • अधिक नींद आना.
  • आंखों में जलन महसूस होना.
  • पेट में बेचैनी होना जैसे कुछ जल रहा है.
  • अल्सर.
  • कई पाचन समस्याएं एसिडिटी या गैस.
  • धडकन तेज चलना.

बॉडी में गर्मी की वजह से आप सोच भी नहीं सकते की और भी कितनी प्रोब्लेम्स और मौसमी बीमारी हो सकतीं हैं.

बॉडी में गर्मी बढ़ने के कारण

  • धुप में या गर्मी में टाइट कपड़े पहनना जिससे शरीर की गर्मी बढ़ती है.
  • थायराइड ग्रंथियां कई बार अधिक सक्रिय हो जाती हैं जो शरीर की गर्मी बाधा देती हैं.
  • शरीर के तापमान में वृद्धि के कारणों में से एक विशिष्ट तंत्रिका संबंधी विकार भी हैं.
  • गर्मियों में दवाई खाने से भीये  दवाएं शरीर में गर्मी उत्पन्न करती हैं.
  • गर्म, तेल और मसालेदार भोजन खाने से गर्मी में वृद्धि होती है.
  • जिम करने वाले लोगों द्वारा खाया जाने वाला प्रोटीन और भोजन गर्मी पैदा करने वाले एजेंटों में से एक है.
  • मांस, अंडे और दालचीनी पाउडर खाने से शरीर में गर्मी भी उत्पन्न होती है.
  • उकैफीनयुक्त उत्पादों और पेय पदार्थो को खाने पीने से भी शरीर की गर्मी बढ़ती हैं.
  • अधिक कसरत और शारीरिक व्यायाम करने से भी बॉडी की गर्मी बढ़ जाती है.

इसलिए शरीर की गर्मी को संतुलित करने के लिए कुछ उपाय करना चाहिए ताकि यह हाइड्रेटेड रहे. चलो कुछ उपायों के नीचे देखें जो शरीर में सामान्य तापमान को बनाए रखने में मदद करते हैं.

पानी की ज्यादा पियें

पानी में शरीर के तापमान को नियंत्रित करने की उच्च क्षमता होती है जो शरीर को हाइड्रेटेड रखती है और शरीर की गर्मी को ठंडा कर देती है. आपको कम से कम 8 से 9 गिलास पीना चाहिए जो रोजाना 2 लीटर पानी होता है.

नारियल का पानी या गन्ने का रस पीना

नारियल का पानी और गन्ना का रस तरल पदार्थ में होता है और यह खनिजों और विटामिनों में बहुत समृद्ध होता है जो शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए आवश्यक है.

शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के लिए रोजाना बादाम के तेल के साथ अनार का रस मिश्रण भी खा सकता है।.चीनी या ककड़ी का पानी, ठंडा कॉफी, और मुसब्बर वेरा के रस को भी शरीर की गर्मी को ठंडा करने के लिए प्राथमिकता दी जाती है.

पिपरमिंट और मिंट का उपयोग करना

पिपरमिंट और पुदीने की पत्तियां शरीर पर एक अच्छा शीतलन प्रभाव उत्पन्न करती हैं और जो शरीर की गर्मी को संतुलित करती है. इन मसालों को नींबू पानी जैसे पेय पदार्थों से मिक्स कर पिया जा सकता है.

फल और सब्जियां

तरबूज, खरबूजे, संतरे, और अंगूर जैसे पानी से भरपूर फल शरीर को पौष्टिकता प्रदान करते हैं और इनको दिन में अधिक खाना चाहिए क्योंकि ये विटामिन्स से भरपूर होतें हैं. सलाद में ककड़ी, और नींबू टमाटर प्याज अधिक लेना चाहिए जिससे पोषक तत्वों की कमिं ना हो. गर्मियों की सभी सब्जीयों को अधिक खाना चाहिए. जो शरीर की आंतरिक और शरीर की बाहरी गर्मी दोनों को संतुलित करती है.

शहद का सेवन

ठंडे दूध के साथ शहद की को खाने से शरीर के यह शरीर के तापमान को ठंडा और हाइड्रेटेड रखती है.

चंदन

चन्दन त्वचा के लिए काफी अच्छा है. यह आयुर्वेदिक विधि द्वारा शरीर की गर्मी को ठंडा करने के लिए उपयोग में लाया जाता है. यह चन्दन एक शीतलन स्रोत है, जो साबुन या पाउडर के रूप में बाजार में आसानी से उपलब्ध है.

योग के द्वारा मिटायें गर्मी

एक मौसम बदलकर दूसरे मौसम का रूप लेता है-और हर मौसम अपने हिसाब से वातावरण में परिवर्तन लाता है. एक योगी स्थिर भाव से इन परिवर्तनों को देखता है और इन परिवर्तनों के अनुसार ही कार्य करता हैः आपका शरीर और मस्तिष्क फिट रहे इसके लिए कुछ साधारण से अभ्यास कर सकते हैं.

यहाँ आपको योग के पाँच सूत्र बताए जा रहे हैं। आप इनमें से अपनी पसंद का कोई एक सूत्र चुनकर उसका नियमित अभ्यास कर सकते हैं, आप चाहें तो पाँचों सूत्रों का अभ्यास कर सकते हैं।

  1. रहस्य आपकी श्वास में है
  2. पानी ज्यादा पिएँ
  3. अपने शरीर की तंत्रिकाओं को शांत करें
  4. योगासन धीमे धीमे करें
  5. शवासन में विश्राम करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here