भारतीय मुस्लिम बेटियाँ सीख रहीं हैं Martial Art मुस्लिम स्कूल बच्ची फ़रीहा का सपना हैं की Martial Art  में Champion बने. उनकें स्कूलवालों ने चीनी Martial Art Wushu की सुरुआत की  क्यूंकि महिलाओं पर आजकल हों रहें अत्याचार को रोका जा सके.Indian National Tournament में qualify  होने के बाद उनका सपना सच होता दिखने लगा हैं.लेकिन उनकीं का कहना हैं उनकी बेटी हिस्सा नहीं लेगी. ऐसा क्यों?. क्या उन्हें समाज की बहुत फ़िक्र हैं सिवा अपनी बेटी के. ऐसा नहीं होना चाहए. अगर आजकल के समय में सभी को सभी तरह के गुण आने चाहए.

हम रह तो रहें हैं 21वी सदी में लेकिन सोच हमारी अब भी पुरानी की पुरानी बनी हुईं हैं

हम रह तो रहें हैं 21वी सदी में लेकिन सोच हमारी अब भी पुरानी की पुरानी बनी हुईं हैं. किसके माँ-बाप नहीं चाहते उनकीं बाहर जाए तो अपने शर्तो पर. कभी बाहर आये तो उससे ये ना पूछा जाए तुम बाहर क्या करने गई थी.इस विचारधारा को बदलना होंगा. हम सबको बदलना होंगा.ये मानसिकता हमे बदलना होंगा. ये एक दिन में नहीं हो जाएगा.इसमें समय लगेगा.

पर सुरुआत तो हों.वरना एक गाने के बोल हैं ना ज़िन्दगी मौत ना बन जाए संभालो यारों.हालत मौत की हो ना हो बहुत बुरी हो जाएगीं.फिल्म समीक्षक रहीं Jaisha Patel का कहना था जब फ़रीहा से पहली बार मिली तो उनके व्यक्तित्व से बेहद प्रभावित हुईं. दुपट्टे से सर को लपेटे और अपनें हिजाब के साथ थी.वों बेहद उत्साहित थी अपनी Turn आने को लेकर.

उन्होंने आगे लिखा उनके स्कूल में सेल्फ डिफेन्स की क्लास चल रहीं थी.जिसमें वों हिस्सा ले रहीं थी. जैसे ही उनकीं बारी आई. फ़रीहा फर्श पर अपना चश्मे फेंक दिया. वह अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ बॉक्स में खुद को तैनात उस पल में, उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था. कम से कम उस वक़्त तो नहीं. नहीं. वह सिर्फ लड़ाई जीतना चाहती थी.अपने दम पर.उनके यहीं जज्बे ने मुझे उनके बारे में लिखने पर मजबूर किया.

फ़रीहा एक अपरिवर्तनवादी परिवार से आती हैं. जहाँ आज भी परुष स्त्री में समानता माना जाता हैं.फ़रीहा दक्षिण भारत के Hyderabad शहर की रहने वाली हैं.जहाँ खासकर महिलाएं घर में रहतीं हैं.कुआ होंगा इस लड़की का भविष्य क्या उसे वैसा वातावरण मिल पाएगा?. अभी उन्हें बहुत संघर्ष करना हैं. अपनी अलग पहचान बनानी हैं.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • फ़रीहा बनना चाहती हैं martial art में चैंपियन.
  • उनकीं माँ का कहना नहीं भाग लेगी मेरी बेटी.
  • उनकें स्कूल में सिखाया जाता हैं सेल्फ डिफेन्स.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here