सीबीआई को पीएनबी Scam मे मिली बड़ी मछली जैसा की हम जानते हैं पंजाब नेशनल बैंक में 12,600 की  धोखाधड़ी हुईं थी.इसी मामले में सीबीआई ने मंगलवार को Geetanjali Group के 48 वर्षीय उपाध्यक्ष को गिरफ्तार किया. बाद में सीबीआई की विशेष अदालत ने उन्हें रिमांड पर रखा. इसके दौरान जांच एजेंसी ने आरोपी Vipul छातिलिया को “धोखाधड़ी का मुख्य नायक” और “साजिश के पीछेअभिन्न दिमाग” के साथ अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मेहुल चोक्सी को ठहराया गया हैं.विशेष न्यायाधीश एस आर तंबोली ने विपुल को 17 मार्च तक CBI की हिरासत में भेज दिया गया हैं.

इस मामले में गिरफ्तार होते ही 19वे आरोपी विपुल हैं. CBI ने धोखाधड़ी में दो अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज की हैं और ज्यादातर आरोपी दोनों उदाहरणों में समान हैं. पहली प्राथमिकी में Nirav modi, उनकी पत्नी Ami, भाई निशल और चाचा मेहुल चोक्सी के साथ अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिक दर्ज हैं. मेहुल चोकसी, गीतांजलि जेम्स और अन्य पर केंद्रित दूसरी प्राथमिकी दर्ज की गयी हैं.

सीबीआई ने अदालत को बताया कि चोकसी से जुड़े मामले में धोखाधड़ी की शुरूआत 4,886 करोड़ रुपये से हुई थी

 

सीबीआई को पीएनबी Scam मे मिली बड़ी मछली

सीबीआई ने अदालत को बताया कि चोकसी से जुड़े मामले में धोखाधड़ी की शुरूआत 4,886 करोड़ रुपये से हुई थी, जो अंततः 22 फरवरी तक 6,138 करोड़ रुपये हो गई . PNB ने एक अतिरिक्त शिकायत दर्ज की थी जिसमें आरोप लगाया गया था कि Foreign Letter of credit (एफएलसी) में 1,251 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई हैं.

मंगलवार की सुबह बैंकाक पहुंचने के बाद मुंबई हवाई अड्डे पर Vipul को Immigration Authority ने पकड़ा था. जिसके बाद उन्हें CBI को सौंप दिया गया था. विपुल, चोकसी और अन्य के खिलाफ एक लुक आउट सर्कुलर (एलओसी) जारी किया गया था. सीबीआई ने कहा कि Vipul 26 जनवरी को बैंकॉक गए थे.

मंगलवार को रिमांड की सुनवाई के दौरान सीबीआई के विशेष अभियोजक ए लिमिसिन ने अदालत से कहा कि विपुल  सीधे चोकसी  को रिपोर्ट कर रहे थे. और कंपनी के अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता भी  थे.

  • “वह सीधे ही Geetanjali समूह के सहायक वित्त प्रबंधक नितिन शाही के जरिए काम कर रहे थे. जो उनके अधीन काम कर रहे थे.
  •  चोकसी के साथ लेनदेन करने के लिए रूपरेखाओं का भी इस्तेमाल करते थे. जो देश से भाग गए हैं और प्रक्रिया को समाप्त करना चाहते हैं.
  •  “सीबीआई ने कहा जांच एजेंसी ने कहा कि वह समूह के लिए पूरे बैंकिंग परिचालन की तलाश कर रहा था. सीबीआई ने अदालत में आरोप लगाया है कि वह दस्तावेजों को छिपाने में सहायक थे.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here