चीन के कर्ज में डूबे ये 8 देश सेंटर फॉर ग्‍लोबल डेवलपमेंट रिसर्च की रिपोर्ट की माने तो पाकिस्तान और मालदीव समेत दुनियाँ के 8 देश चीनी कर्ज के जाल में फंसकर बर्बाद हो सकते हैं. करीब 8 लाख करोड़ डॉलर की लागत वाली One Belt One Road Initiative(BRI) इन देशों की बर्बादी का कारण बन सकता हैं. स्टडी की माने तो यूरोप,अफ्रीका और Asia में चलने वाली इस Infrastructre project  की वजह से इन देशों के सामने कर्ज का संकट खड़ा हो सकता हैं.

जानिए चीन कैसे बुन रहा जाल?

सेंटर फॉर devlopment में विजिटिंग फेलो और इस रिपोर्ट के को-ऑथर जॉन हार्ले के मुताबिक, कर्ज में फंसने वाले अधिक देश ऐसे हैं, जिन्‍हें अपने Infrastructre को दुरूस्‍त करने के लिए फाइनेंसिंग की सख्‍त जरूरत हैं. BRI से उनकी यह जरूरत पूरी हो रही हैं. खासकर China जिस तरह आसानी से लोन दे रहा है, उसे कौन नहीं लेना चाहेगा. इसमें किसी तरह का संकट भी नहीं हैं. अपने कर्ज के संकट में फंसे किसी देश को चीन जिस तरीके से मैनेज करता है, वह सबसे बड़ी समस्‍या हैं.

कौंन-कौंन है वों 8 देश जो डूबे है कर्ज में :-

Djibouti

Kyrgyistan

Lao

Maldives

Mongolia

Montenegro

Pakistan

tajikistan

कैसे बनाता है चीन दवाब?

आपको बता दें कि कर्ज नहीं चुकाने पाने वाले देशों के खिलाफ चीन की कई तरह के दबाव बनाने के लिए पूरी दुनिया में बदनाम हैं. श्रीलंका, कम्‍बोडिया और नाइजीरिया को न चाहते हुए भी चीन की शर्तें पर समझौता करने को बाध्‍य होना पड़ा हैं. कर्ज नहीं चुका पाने पर श्रीलंका को अपना पोर्ट तक चीन को देने के लिए बाध्‍य होना पड़ा हैं. चीन ने बिना ग्रोथ पोटेंशिल के ऐसे कई देशों को बेतहाशा कर्ज दिया और कर्ज नहीं चुका पाने के एवज में उनकी जमीनें हड़प ली या फिर कई तरह के नियम थोप दिए.

भारत अमेरिका क्या करते हैं?

भारत,अमेरिका,जापान जैसे देश और तो और वर्ल्ड बैंक इसके साथ-साथ IMF जैसी संस्थाए भी इस तरह के प्रोजेक्ट के लिए लोन देते रहे हैं. लेकिन इनका रेट बेहद ही कम होता हैं. इसके साथ-साथ लोग देश के Growth Potential को भी ध्यान में रखते हुए देखते हैं. कहना का मतलब की जिस देश को कर्ज दिया जा रहा है वों उससे चुका भी पाएगा या नहीं.

अगर वों चुकाने लायक नहीं हैं, तो उन्हें लम्बी अविधि का लोन दिया जाता हैं. रिपोर्ट की मानने तो इसके ठीक उलटे चीन ये Parameter नहीं देख रहा हैं. यहीं मुख्य कारण है की देश कर्ज के संकट में आ सकते हैं.

प्रमुख बिंदु:-

  • चीन कैसे बुन रहा और देशों के लिए जाल.
  •  चीन का रवैया क्या होता हैं.
  • भारत और अमेरिका क्या करते हैं.

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here