दाऊद इब्राहिम का सहयोगी Takla गिरफ्तार मोहम्मद फारूक यासीन मंसूर ऊर्फ फारूक Takla 1993 के मुंबई धारावाहिक बम धमाकों में आरोपी और माफिया दाऊद इब्राहिम कास्कर के निकट सहयोगी को मार्च 8, 2018 को मुंबई में नामित टाडा कोर्ट के समक्ष पेश किया जायेगा. अबू धाबी से प्रत्यर्पित पिछले साल भारत द्वारा किए गए एक अनुरोध पर  जो एक चौथाई सदी के लिए कानून से छुटकारा पाने के लिए, आखिरकार 5.15 बजे दिल्ली एयरपोर्ट पर केंद्रीय ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था. बाद में उन्हें मुंबई लाया गया था.

25 साल में मोहम्मद फारूक मंसूर, दाऊद इब्राहिम के एक करीबी सहयोगी उर्फ फारूक तकाला को संयुक्त अरब अमीरात से प्रत्यर्पित किया गया. उन्हें 19 मार्च तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया गया हैं.1993 के बम विस्फोटों के 25 साल बाद दावा किया गया था. अब तक के 257 मासूमों  के आरोपी को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया. सीबीआई ने गुरुवार को दाउद इब्राहिम के करीबी सहयोगी मोहम्मद फारूक मंसूर, उर्फ फारूक तकला को गिरफ्तार किया.

सीएसटी कार्यालय स्थानांतर किस वजह से कही और ले जाया गया

दाऊद इब्राहिम का सहयोगी Takla गिरफ्तार

सीएसटी कार्यालय स्थानांतर किस वजह से कही और ले जाया गया?. यहीं वों कारण हैं. इससे क्या फर्क पड़ेगा?. क्या इससे बेकसूरों को इंसाफ मिल जायेगा?. नहीं ना तो फिर जो इन सब का मास्टर माइंड हैं उसे गिरफ्तार किया जाना चाहये. क्या ये शुरुवात हैं?. इससे क्या फर्क पड़ेगा अन्य अभियुक्तों पर?.

इतना तो तय हैं इससे उनके मन मे डर का खौफ अब भी कायम होंगा.क्यों ना हों होना भी चाहए.इससे कम से कम उन निर्दोष पुरुष के परिवार वालों को चैन की साँस मिलेगी.क्या ये उम्मीद की किरण नहीं हैं?. बिलकुल हैं.अगर ऐसा हैं सरकार सुनिश्चित करे की इस बम ब्लास्ट के अभियुक्त को जल्द से जल्द पकड़ा जाये और जल्द से जल्द इन्हें सजा भी दी जाए.

ये एक नयी भारत की उगते हुए सूरज के साथ एक नयी प्रवाह हैं. ये ज्वाला हैं हर वों हिंदुस्तानी की जिसे हम खत्म नहीं होने देंगे.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • दाऊद इब्राहिम सहयोगी ताकला गिरफ्तार
  • सीएसटी कार्यालय का किया गया स्थानांतर

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here