देखे: ये हैं माँ काली का रहस्य महल यहाँ शाम को फूल चढ़ते हैं सुबह होने पर बिखर जाते हैंपिथोरगढ़ में बने माँ काली के एक मंदिर में कई अनेकों चमत्कार देखने को मिलते हैं.इस मंदिर के बारे में ऐसा कहा जाता हैं की  माँ काली खुद इस मंदिर में आराम करने के लिए आती हैं.इनके विश्राम गृह पर हर रोज़ चादर के हर कोने पर फूल लगाये जाते हैं.ऐसा भी कहा जाता हैं की इस धाम पर माँ को सदियों से लोरी सुनाई जाती हैं.लेकिन जब अगली सुबह का दरवाज़ा खुलता हैं तो सब कुछ बिखरा हुआ पाया जाता हैं.प्रश्न ये हैं क्या सच में रात को देवी काली आती हैं?.

कुछ लोगों का तो ये भी कहना हैं की उन्होनें काली माँ की आवाज़ भी सुनी हैं

कुछ लोगों का तो ये भी कहना हैं की उन्होनें काली माँ की आवाज़ भी सुनी हैं. और तो और माँ काली को रात में चढ़ाये प्रसाद भी सुबह जूठा पाया जाता हैं. प्रमाण तो ऐसे ही कुछ कहते हैं.क्या ऐसा आज के ज़माने में मुमकिन हैं?. अगर इतने प्रमाण हैं तो बिलकुल हो सकता हैं. ऐसे में इन  सारी बातों पर कोई विश्वास नहीं करेगा.

परन्तु बात ये भी हैं अगर इतना कुछ प्रमाण सामने आया हैं तो ये सारी बाते सोचते पर मजबूर कर देती हैं.ऐसा क्यों नहीं हो सकता ?. क्या हम भगवन पर विश्वास नहीं करते और अगर हम करते हैं, तो हमे ये भी पता होना चाहए भगवान अजर हैं और अमर भी. भगवान हमारे हर तरफ फैले हुए हैं. बस विश्वास की बात हैं. माँ काली ने यहाँ बस ये बताने की कोशिश की हैं वों अपने लोगों से अत्यधिक प्रेम करती हैं. इसलिए उनकी रक्षा के लिए वे हर जगह विधमान हैं.ये लीला हैं माँ काली की . ये लीला हैं उनकी. हमे आभारी रहना चाहए उनका की वों हमारी परेशानियों को समझती हैं, इसलिए हमारे लिए हमेशा तत्पर रहती हैं.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • माँ काली का रहस्य मंदिर जहाँ साम को चढ़ते हैं फूल.
  • सुबह होते ही मिलते हैं बिखरे फूल.

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here