आम्रपाली ग्रुप (Amrapali Group) से धोनी को लगा 150 करोड़ का चूना लगाने की बात सामने आई है. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने 150 करोड़ रूपये आम्रपाली ग्रुप से मांगे हैं. यह खबर है की 150 करोड़ रुपये आम्रपाली ग्रुप धोनी को नहीं दे रहा है. जिसके लिए धोनी ने यह आरोप लगाया है की आम्रपाली का ब्रांड एंबेसडर बनने के बाद कंपनी ने उनका पेमेंट नहीं किया है. वे धोनी को 150 करोड़ का चूना लगाने की फ़िराक में है. तो वही विशेष सूत्र बताते हैं की आम्रपाली ग्रुप की आर्थिक हालत अभी पतली है. कंपनी कई शहरों में अपने रियल एस्टेट प्रोजेक्ट पूरे नहीं कर पा रही है.

धोनी का एडवरटाइजिंग का काम रिह्टी स्पोर्ट्स देखती है

धोनी का पूरा काम रिह्टी स्पोर्ट्स कंपनी देखती है तो धोनी की ओर से रिह्टी स्पोर्ट्स कंपनी ने आम्रपाली ग्रुप के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में रिकवरी का केस दर्ज किया है. यह आरोप भी लगाया है की आम्रपाली ग्रुप धोनी को 150 करोड़ का चूना लगाने का सोच रही है. अभी तो धोनी आईपीएल में व्यस्त हैं.

अरुण पांडे के अनुसार

Rhiti Sports (रिह्टी स्पोर्ट्स) के मैनेजिंग डायरेक्टर अरुण पांडे का कहना है कि आम्रपाली ग्रुप ने हमें मार्केटिंग और ब्रांडिंग के कामों का पेमेंट नहीं किया है. धोनी इनके लगभग पिछले 6-7 साल से ब्रांड एबेंसडर हैं. अप्रैल 2016 में धोनी  कंपनी के ब्रांड एबेंसडर से हट भी गए थे. अरुण पांडे का कहना है की अभी करीब 200 करोड़ रुपए बकाया है. और धोनी को भी 150 करोड़ का चूना लगाने का सोच रहे हैं. कम्पनी ने अपने प्रोजेक्ट्स पुरे नहीं किये जिसके कारण धोनी को ट्विटर पर टैग कर अपना पैसा लोगों ने वापिस माँगा है.

धोनी को भी 150 करोड़ का चूना लगाने की इस पूरी बात पर भी आम्रपाली ग्रुप से अभी तक कोई भी बात सामने नहीं आई है ना कोई व्यान किसी ने अभी तक दिया है. आम्रपाली ने 2016 में भारतीय क्रिकेट टीम के हर प्लेयर को नोएडा के आम्रपाली ड्रीम वैली प्रोजेक्ट में एक घर देने की बात कही थी तो वहीं 2011 में भी आम्रपाली ग्रुप ने वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम को घर देने की बात कही थी. धोनी को कंपनी ने 1 करोड़ का विला देने का कहा था और टीम के दूसरे सदस्यों को 55 लाख के विला देने का कहा था. इस मामले को जानने वाले एक व्यक्ति के हिसाब से ये  घर कभी बने ही नहीं और ना ही किसी भी खिलाडी को ये घर कभी दिया गया.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here