क्या आप दुनियाँ के सबसे कीमती लिक्विड्स costly liquids  के बारे में जानते है. शायद आप सोच रहे होंगे की हम पेट्रोल डीजल, एलपीजी आदि की बातें करेगे, तो जवाब है बिलकुल नहीं. जिन liquids के बारे में हम बात कर रहे है वे पेट्रोकेमिकल्स से हट कर कुछ और है. वो बेहद दुर्लभ है. दुर्लभ होने की ही वजह से बहूत महंगें भी है. आज हम ऐसे ही १० बेहद कीमती लिक्विड्स (costly liquids) के बारे में जानेंगे.  जिनके कीमत के बारे में सुनकर आप बोल पड़ेंगे अरे हमने तो ऐसा कभी सुना भी नहीं.

 

बिच्छु का जहर (68 करोड़ रूपये प्रति Liter)

बिच्छु का नाम सुनते ही मन में भय की सिहरन दौड़ जाती है. परन्तु सभी प्रकार के बिच्छू प्राण घातक नहीं होते.  संसार भर में बिच्छुओं की केवल 25 प्रतिशत ही जातियां ऐसी होती है जो मनुष्य के लिये प्राण घातक होती है.  सांपो के जहर की ही तरह इनका जहर भी मेडिकल उपयोग में आता है.  इससे भी कई बीमारियों का इलाज होता है.  इसलीए बिच्छुओं  का जहर भी एक बहुत ही महँगा लिक्विड (costly liquid) है.  इसका उपयोग मुख्यत: आंतो की बिमारीयों की दवा बनाने में काम आता है. इसलिये ये लिक्विड भी दुनिया के महंगे तरलो में से एक है.

 

किंग कोबरा का ज़हर (130654.57 रूपये per gram)

किंग कोबरा दुनियाँ के सब से जहरीले सांपो में शुमार है. इसका एक दंश भी बड़े से बड़े जीव के प्राण चूस सकता है. लेकिन यही जहर लोगो की जान बचाने में भी सक्षम है. इस जहर  में ओहानिन नामक प्रोटीन पाया जाता है, जो कि दर्द निवारक दवा बनाने में इस्तेमाल किया जाता है. इसको प्राप्त करने में कठिनाइयाँ एवं खतरों के कारण इस की उपलब्धता कम है. इसलिये ये बहूत ही महँगा लिक्विड (costly liquid)है. Rs 130654.57 per gram for venom named horned adder.

काली प्रिंटर इंक (1 लाख 74 हज़ार रूपये प्रति gallon)

प्रिंटर की इंक बेहद कीमती होती है.इसके एक गैलन की कीमत करीब 4730 डॉलर तक होती है. क्या आप जानते है हेल्वेट पेकार्ड नामक कम्पनी इंक की शोध में एक वर्ष में 1 बिलियन डॉलर तक खर्च कर देती है. आप को जानकर आश्चर्य होगा की इसको बनाने की लागत इसकी इतनी कीमत की जिम्मेदार नहीं है, बल्कि यहाँ माँग और पूर्ति का नियम काम कर रहा है. क्यों की इसकी माँग बाजार में बहुत अधीक है और पूर्ति अपेक्षाकृत कम है. इसलिए ये भी एक बहूत किमती लिक्विड (costly liquid)है.

 

गामा हाइड्रोक्सीब्यूट्रिक एसिड (जीएचबी) – 1 लाख 61 हज़ार रूपये प्रति gallon

अब आप पुछेगें की भाई ये क्या है. ये एक तरह का लिक्विड है जो एनेस्थेसिया के तौर पर इस्तेमाल होता है. कहीं कहीं पर लोग इसका अनुचित उपयोग करते हुए भी पाए जाते है. जैसे बॉडी बिल्डिंग प्रोडक्ट में इसका अवैध तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.  हमारे तंत्रिका तंत्र में भी इसकी सुक्ष्म मात्रा प्राकृतिक तौर पर पायी जाती है.  कुछ देशो में ये मेडिसिन के तौर पर मान्य नहीं है. फ़िनलैंड में इसे ड्रग्स की केटेगरी में रखा हुआ है. वहां की सरकार ने इसे प्रतिबंधित किया हुआ है.

 

मानव रक्त (कीमत 97000 रूपये प्रति gallon)

जी हाँ मानव रक्त एक बहूत ही कीमती लिक्विड्स (costly liquid) है, चुकिं इसकी उपलब्धता मनुष्य के जीवन से जुडी है इसलिये अपने आप में ये बहूत मूल्यवान एवं कीमती लिक्विड होता है.  खून के कुछ प्रकार बेहद दुर्लभ होने की वजह से कभी कभी बेहद कीमती हो जाते है.

 

इन्सुलिन (64 लाख 41 हज़ार रूपये प्रति gallon)

डायबिटीज के इलाज में इन्सुलिन के प्रयोग के बारे में तो आप ने सूना ही होगा. यह एक तरह का हार्मोन है जो प्राक्रतिक तौर पर हमारे शरीर में पाया जाता है. आज कल वैज्ञानिक ने इसे प्रयोगशालाओ में भी बनाने की विधि पा ली है. जब इसका शरीर में उत्पादन अनियमित हो जाता है, तब इसे डॉक्टर की सलाह पर दवाई के तौर पर लिया जात्ता है. परंतू ये दवा एक कीमती लिक्विड (costly liquid) की श्रेणी में भी आती है.

 

पारा (2 लाख 20 हज़ार प्रति gallon)

ये एक ऐसी ख़ास प्रकार की धातू है जो साधारण ताप एवं दाब पर लिक्विड रूप में पायी जाती है. इसका इस्तेमाल व्यापक पैमाने पर मेडिकल उपकरण बनाने में एवं अन्य वैज्ञानिक उपकरण बनाने में होता है. इसका उपयोग मुख्यत: थर्मामीटर बनाने एवं फ्लोरोसेंट बल्ब बनाने में होता है. इसकी कीमत करीब 2 लाख 20 हज़ार प्रति gallon है जो की इसे किमती लिक्विड (costly liquid) की श्रेणी में डालता है.

 

हॉर्स-शू केकड़े (1000000 रूपये प्रति gallon)

बिना रीढ़ की हड्डी वाले जीव होते है, ये केकड़े नरम, रेतीले, गंदे, उथले समुद्र के पानी के आसपास मुख्य रूप से पाये जाते हैं। ये कभी-कभी किनारे पर आते हैं. ये आमतौर पर चारा और उर्वरक के रूप में उपयोग किये जाते है। इनका रक्त एक बहूत ही उपयोगी किन्तु महँगा लिक्विड (costly liquid) है. इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से चिकित्सा उत्पादों की गुणवत्ता को जांचने में किया जाता है.  इसका रंग नीला होता है. इसकी माँग मार्केट में बहूत रहती है.  माँग और पूर्ति का यह अंतर ही इसकी कीमत को बहूत बड़ा देती है.  इसका प्राईज है $60000 प्रति गैलन.

 

लीसर्जिक एसिड डाईथाईलामिड (एलएसडी)

एलएसडी एक गंध रहित सफेद रंग का पाउडर होता है जिसे पानी में घोला जा सकता है। यह कागज से भी सोखा जा सकता है, चीनी क्यूब्स या माइक्रोडॉट्स या एक लिक्विड के तौर पर एवं टैबलेट या कैप्सूल के रूप में भी यूज किया जाता है। यह एक अर्धसंश्लेषित दवा है जो की भ्रामक प्रभाव पैदा करती है.  इसके सेवन से इंसान अपना संतुलन खो देता है. इसका उपयोग मनोचिकित्सकिय दवाओं के तौर पर डॉक्टर्स द्वारा लिखा जाता है. कई लोग इसका अनुचित प्रयोग भी नशे के तौर पर करते है.  ये एक महँगा लिक्विड (costly liquid)है.  इसका एक गैलन करीब 55000 लोगो को भ्रमित कर सकता है.

 

चैनल नंबर 5 परफ्यूम (8741 रूपये प्रति 0.1005 liter)

रसायन शास्त्री अर्नेस्ट बॉक्स और कोको चैनल की सहभागिता से बना यह पहला परफ्यूम है. इसका उत्पादन सन 1922 में किया गया था। यह दुनिया एक बहूत अधिक पसंद किया जाने वाला परफ्यूम है , रसायन शास्त्री अर्नेस्ट बॉक्स और कोको चैनल की सहभागिता से बना यह इत्र लोगों को इतना पसंद आया कि देखते ही देखते एक लोकप्रिय और अत्यंत महंगा ब्रांड बन गया।  इसकी एक बोतल 4 FL. OZ (0.1005 liter) की कीमत ही लगभग ८७४१ रूपये है.

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here