एक ऐसा मंदिर जहाँ घी तेल से नहीं पानी से जलता हैं दीपक वैज्ञानिक दृष्टीकोण से देखा जाए तो तेल एक ज्वलनशील पदार्थ हैं.जिसकी वजह से दीपक की लौ जलती हैं.लेकिन एक ऐसा मंदिर भी हैं जहाँ पानी से दीपक जलता हैं.आप इस ख़बर को सुनकर चौक गए लेकिन ये पूरी तरह सच हैं.मध्य प्रदेश के मालवा में देवी के एक मंदिर में कुछ इस तरह का चमत्कार देखने को मिला हैं.यह मंदिर बहुत प्राचीन हैं.

5 सालों से मंदिर में पानी से दीपक जल  रहा हैं

5 सालों से मंदिर में पानी से दीपक जल रहा हैं. इसे ‘गाड़िया घाट’ वाली माता का मंदिर भी कहा जाता हैं.इस मंदिर के पुजारी सिद्धू सिंह सोंधिया बचपन से ही मंदिर की पुजा करते आ रहे हैं.अगर ऐसा तो ये बहुत ही आश्चर्यजनक ख़बर हैं. ऐसी जगह जहा पानी से होती हैं आरती. ऐसा कुछ तो हिन्दू धर्म में कहा नहीं गया की आप पुजा करते समय आरती तेल से करे या पानी से. हाँ  इतना बिलकुल हैं पानी से दिया का जलना एक ऐसा  ख़बर हैं जिसे कहना या देखना आश्चर्य से कम नहीं.

इसे आप ऐसे भी कह सकते हैं ये प्रकिया क्या इस मंदिर में सदियों से चली आ रहीं हैं या बस कुछ वर्षो की बात हैं?.अगर ऐसा सदियों से चला आ रहा हैं तो इस मंदिर के बारे में सबको बताना चाहये. जागरूक करना चाहए ताकिलोग इस मंदिर के दर्शन करने आये जिससे ये मंदिर देश भर में भी प्रचलित हों.इससे घी, तेल की मात्रा में भी बढ़ोतरी होंगी. मतलब तेल, घी को बचाया जा सकेगा.

भारत में ना जाने अनेकों ऐसे मंदिर हैं जिनके बारे में ना हमने आज तक जाना हैं और ना ही जानने की कोशिश की हैं. इस परंपरा को बदलना होगा. अगर हम इन मंदिर के बारे नहीं जानेंगे और अपनी धार्मिक विरासत को नहीं जानेंगे तो कौन जानेगा.हमे ये समझना होगा जानना होगा हमारी विरासत ही सब कुछ हैं. इसके बिना हम कुछ भी नहीं.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • ऐसा मंदिर जहाँ घी से नहीं मंदिर से जलता हैं दीपक
  • मध्य प्रदेश के मालवा में हैं यह मंदिर धार्मिक विरासत को जानना पहचानना हमारा कर्त्तव्य

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here