संविधान निर्माता Dr Bheem Rao Ambedkar पर टिप्पणी के मामले में क्रिकेटर Hardik Pandya मुश्किल में घिरते दिख रहे हैं. जोधपुर की एक अनुसूचित जाति-जनजाति अदालत ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है. Pandya के खिलाफ याचिका दाखिल करने वाले डी.आर. मेघवाल के मुताबिक Pandya ने 26 दिसंबर, 2017 को अपने ट्विटर अकाउंट पर एक टिप्पणी लिखी थी, जिसमें उन्होंने अांबेडकर का अपमानित किया था और दलित समुदाय के लोगों की भावनाओं को आहत किया था.

मेघवाल के मुताबिक Pandya ने ट्वीट किया था, कौन Ambedkar? वह व्यक्ति जिसने देश के संविधान का ड्राफ्ट तैयार किया या फिर वह जिसे देश को आरक्षण नाम की बीमारी दे दी.’ Pandya की इस टिप्पणी के खिलाफ मेघवाल ने याचिका दाखिल की थी. खुद को राष्ट्रीय भीम सेना का सदस्य बताने वाले मेघवाल ने अपनी याचिका में कहा था कि उनके जैसे क्रिकेटर ऐसी टिप्पणी कर न सिर्फ संविधान का अपमान किया है बल्कि दलित समुदाय की भावनाओं को भी आहत किया है.

मेघवाल ने कहा, ‘जनवरी में सोशल मीडिया के जरिए मुझे Hardik Pandya की टिप्पणी के बारे में जानकारी मिली. यह अंबेडकर जैसी हस्ती के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी थी. इसके अलावा यह समुदायों के बीच नफरत फैलाने वाली थी.’

बता दें कि मेघवाल खुद को राष्ट्रीय भीम सेना का सदस्य बताते हैं.

Hardik Pandya ने कहा

  • बीते साल किए एक ट्वीट को लेकर वकील ने दायर की थी याचिका. अदालत ने दिया केस दर्ज करने का आदेश.
  • Pandya ने ट्वीट किया था, ‘कौन अंबेडकर? वह व्यक्ति जिसने देश के संविधान का ड्राफ्ट तैयार किया या फिर वह जिसे देश को आरक्षण नाम की बीमारी दे दी.’
  • Pandya पर अंबेडकर का अपमान करने और दलित समुदाय की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया.
  • अदालत ने दिया केस दर्ज करने का आदेश

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here