कलयुग में सरकार करा रही स्वयंवर: इच्छुक युवक ले भाग

0
161
कलयुग में सरकार करा रही स्वयंवर: इच्छुक युवक ले भाग
कलयुग में सरकार करा रही स्वयंवर: इच्छुक युवक ले भाग

ढाई साल पहले पाकिस्तान से भारत लायी गई गीता की शादी सरकार करा रही है. इसके लिए सरकार स्वयंवर कराने में जुटी हुई है. ऐसा पहली बार होगा जब भारत सरकार घराती की तरफ से होगी. बात रही दूल्हा पसंद करने की तो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज खुद करेंगी अब दुल्हे को पसंद. विदेश मंत्रालय अब गीता को घर, नौकरी और गृहस्थी का सामान भी देगा. गीता के लिए अभी दूल्हा तलाशा जा रहा है. इनमें लेखक से लेकर पंडित तक शामिल हैं।

कौन हैं गीता

अगर आपको ना पता हो तो जान लें कि गीता 14 साल तक पाकिस्तान में रही. गलती से सीमा पार करने के बाद उसे पाकिस्तान के पंजाब में रेंजर्स ने देखा था. रेंजर्स पहले उसे लाहौर के ईदी फाउंडेशन में ले गए थे. बाद में करांची में इसी संगठन के एक शेल्टर होम में उसे भेज दिया गया. कराची में ‘मदर ऑफ पाकिस्तान’ के नाम से मशहूर बिलकिस ईदी ने इस लड़की का नाम गीता रखा.

रिपोर्ट की माने तो अब तक 12 लोग अभी तक गीता से शादी करने के लिए इक्छा जाता चुके है. जाने इच्छुक युवा से दो सवाल क्या पूछे जा रहे?

1. गीता से ही क्यों शादी करना चाहते हो?.

2. क्या घर वाले इस शादी के लिए तैयार है?.

जाने युवको के क्या थे जवाब ?

सांवेर के रहने वाले महेश दास का कहना था पाकिस्तान में रहकर भी गीता ने हिन्दू धर्म नही छोड़ा. साधारण लड़की ही चाहिए थी. घरवालों को इस शादी से कोई परेशानी नही है. वही अगर बात करे और लोगों की तो इंदौर में मिठाई की दुकान पर काम करने वाले सुरेश सिसौदिया ने जवाब दिया की गीता प्रसिद्ध है. हवाई जहाज में यहाँ आई थी. सुषमा जी खुद शादी कराएंगी. घरवालों को कोई परेशानी नही है.

कहाँ है अभी गीता

गीता अभी इंदौर में गुमाश्ता नगर स्थित मूक-बधिर संगठन की देखरेख में है. इस मूक-बधिर संगठन की मोनिका पंजाबी ने बताया कि कई लोगों ने हमे फ़ोन करके गीता से शादी की इच्छा जताई है. हमने बायोडेटा मंगवाए थे. उन्हें विदेश मंत्रालय भेज दिया है.

विदेश मंत्रालय से मिले निर्देशों के अनुसार होंगे सरे काम

कलेक्टर निशांत वरवड़े का कहना है कि शादी के लिए वो राजी हैं की नहीं यह अंतिम निर्णय गीता का ही होगा, लेकिन इसकी सारी चीजें विदेश मंत्रालय से ही सब कुछ विदेश मन्त्रालय संभालेगा. हम विदेश मन्त्रालय से मिले निर्देश के मुताबिक काम कर रहें हैं.

अभी तक बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, तेलंगाना और मध्य प्रदेश के 15 ऐसे परिवार हैं जो दावा कर चुके है की गीता उनकी बेटी है. जब इन परिवार वालों को गीता से मिलाकर डीएनए जांच करवाई गयी तो ये मैच नहीं हुए.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here