किस धार्मिक यात्रा के लिए भी बुलेट प्रूफ अनिवार्य ?अगर आप अमरनाथ यात्रा पर जाने की तैयारी में जुटे हैं तो यह खबर आपको थोड़ा झटका दे सकती हैं. बाबा बर्फानी के दर्शन पाने वालों को इस साल बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर यात्रा पर जाएंगे. श्रद्धालुओं को इसके लिए खुद से बुलेट प्रूफ जैकेट खरीदनी पड़ेगी या उसका किराया चुकाना पड़ेगा. लेकिन ऐसा सिर्फ गुजरात के लोगों पर ही लागू होगा.

राज्य सरकार ने हाल ही में दिशा-निर्देश जारी करते हुए बसों से यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट पहनना अनिवार्य कर दिया हैं. सरकार ने यह फैसला पूर्व में हुई अप्रिय घटनाओं को ध्यान में रखते हुए लिया हैं. दिशा-निर्देश में इसी के साथ यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि ड्राइवर की उम्र 50 साल से कम हो. आपको बता दें कि कुछ महीनों पहले जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में श्रद्धालुओं से भरी बस पर आतंकियों ने हमला बोल दिया था, जिसमें गुजरात के भी लोग थे.

टूर ऑपरेटर का क्या है कहना?

रिपोर्ट की माने तो इस संबंध में ट्रांसपोर्ट कमिश्नर र.म जाधवान ने कहा “श्रद्धालुओं को बुलेट प्रूफ जैकेट मुहैया कराने के निर्देश हमें राज्य सरकार से मिले हैं. बस ऑपरेटर का कहना है की जैकेट खरीदना उनके बस की बात नहीं. जैकेट खरीदना उनके जेब पर असर डालेगा.  वडोदरा के एक टूर ऑपरेटर ने बताया “ अगर हम दिशा निर्देश का पालन नहीं करेंगे तो राज्य हमें यात्रा पर ले जाने की परमिट नहीं देगा. इसमें कागजी कार्यवाई से लेकर हमारे लिए ढेर सारी समस्याएं शामिल हैं.

वडोदरा टूर एंड ट्रेवल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष सिद्दीकी गांधी ने कहा, “चूंकि हम बुलेट प्रूफ जैकेट का खर्च नहीं उठा सकते, लिहाजा हमें श्रद्धालुओं से उसे खरीदने के लिए कहना पड़ेगा. इस जैकेट की कीमत तकरीबन 12 हजार रुपए के आसपास हैं.”  गुजरात से हर साल तकरीबन पांच से सात हजार लोग पंजीकरण कराकर बाबा बर्फानी के दर्शन करने के लिए जाते हैं.

कितने लोगों ने किया पंजीकरण ?

वहीं, बगैर पंजीकरण के राज्य से जाने वालों की संख्या 35 हजार के आसपास आंकी जाती है। टूर ऑपरेटर्स आमतौर पर यात्रा पर जाने वालों से 10 हजार रुपए वसूलते हैं. गांधी इस बारे में बताते हैं, “जैकेट खरीदने के लिए अगर हम श्रद्धालुओं को बोलेंगे तो यह उनकी जेब पर अधिक भार डालेगा.”

अखिल गुजरात टूरिस्ट ऑपरेटर्स फेडरेशन के अध्यक्ष हरी पटेल का कहना है “हम कैसे बुलेट प्रूफ जैकेट खरीद सकते हैं. जो आम नागरिकों के लिए आसानी से नहीं मिलती हैं. निजी टैक्सी ट्रेन और हवाई यात्रा से आने वाले यात्रियों पर ये नियम लागू नहीं होता. हम इसके लिए तैयार हैं. लेकिन सरकार को इन सारी बातों पर थोड़ा और सोचना चाहिए था.

अमरनाथ यात्रा के लिए देश के तमाम हिस्सों से अब तक 60 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने एडवांस में पंजीकरण करा लिया हैं. बाबा बर्फानी की पवित्र गुफा के दर्शन के लिए होने वाली एस यात्रा की शुरुआत 28 जून से होगी और समाप्त जाकर 28 अगस्त को होगी.

प्रमुख बिंदु:-

  • भगवान के दर्शन करने के लिए भी बुलेट प्रूफ जरुर.
  • आम नागरिकों को होगी परेशानी.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here