किसानों ने घेरी विधानसभा कर्ज माफ चाहियेलगभग 35,000 किसान Maharastra के सारे इलाकों से नासिक से मुंबई होते हुवे लगभग 180 किलोमीटर की पैदल यात्रा तय करके 12 मार्च को विधानसभा का घेराव करेंगे. यह अभियान आल इंडिया किसान सभा की तरफ से हैं. उनकी ये मांगे हैं की किसानो के क़र्ज़ को माफ़ किया जाए और साथ ही साथ MS Swaminathan Commission का भी पालन किया जाए. किसानों के साथ ऐसा अन्याय क्यों हो रहा हैं?.

किसानों का एक समूह मुख्यमंत्री देवेन्द्र से 1 बजे मिलेगा. आल इंडिया किसान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक धावले का कहना हैं कि हम किसानों के कर्ज को माफ़ करवाने के लिए विधानसभा का घेराव करेंगे. मुख्यमंत्री की ये अपील थी की किसान कृपया रास्ता साफ़ रखे ताकि बच्चे अपने-अपने  स्कूल जा सके. इसी बीच राहुल गाँधी का कहना हैं की किसानो की ये समस्या पूरे देश में हैं. क्या राहुल गाँधी के लिए ये मुद्दा कितना खास होगा?.

सरकारी सूत्रों से ये पता चला है कि विरोध करने वाले किसानों को आजाद मैदान से आगे जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जो वे सोमवार, 12 मार्च के शुरुआती घंटों में पहुंच गए थे. फिर मुख्यमंत्री फडनवीस से मिलने के लिए किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल को विधानसभ भवन में आने की अनुमति दी जाएगी. मांगों को देखने के लिए छह सदस्यीय समिति का गठन किया गया. महाराष्ट्र सरकार ने प्रदर्शनकारी किसानों की मांगों की जांच के लिए एक छह सदस्यीय समिति नियुक्त की हैं. आखिर समस्या किसानों की कब हल होगी?.

रिपोर्ट के अनुसार, समिति के छह सदस्यों में महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल एवं कृषि मंत्री पांडुरंग निधिकर रहेंगे

रिपोर्ट के अनुसार, समिति के छह सदस्यों में महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल, कृषि मंत्री पांडुरंग निधिकर, सिंचाई मंत्री गिरीश महाजन, जनजातीय विकास मंत्री विष्णु सावरा, राज्य सहकारिता मंत्री सुभाष देशमुख और शिवसेना के नेता और पीडब्ल्यूडी मंत्री एकनाथ शिंदे शामिल हैं. इस समिति के गठन करने का निर्णय मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के घर में हुई एक बैठक में लिया गया था.

राज ठाकरे का कहना था ये सरकार किसानों के लिए कुछ नहीं कर सकती. उनका कहना था आप मेरे हाथों में सत्ता दीजिये मै दिखाऊंगा और बताऊंगा भी की कैसे की जाती हैं किसानों की सहायता.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • किसानों का विधानसभा घेराव.
  • कर्ज माफी की मांग.
  • 1 बजे मिलेंगे किसानों के समूह मुख्यमंत्री से.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here