कुंडली के वो क्या संकेत है जो मनुष्य के धनवान होने का ईशारा करते है

1
281
आइये जानते है वो कौन से ऐसे योग है जो बना देते है व्यक्ति को धनवान - - कुंडली का दूसरा भाव धन, सोना, चांदी खजाना, मोती, हीरे आदि को इंगित करता है इसके साथ ही व्यक्ति के पास स्थाई संपत्ति क्या क्या होगी इस पर भी इस आधार पर विचार किया जाता है जैसे घर, भवन-भूमि आदि.
Jyotish

ज्योतिष शास्त्र की मान्यता है कि जन्म कुंडली (kundli) के योग ही वे तत्त्व है जो व्यक्ति को धनवान बनाते है. भृगु संहिता में कुंडली (kundli) के कुछ ऐसे ही योग बताये गए है जो व्यक्ति के धनवान बनने के लिये जुम्मेदार होते है

हम आगे इस बारे में कुछ विस्तार से चर्चा करेंगे

आईये हम जानते है वो कौन से ऐसे योग है जो बना देते है व्यक्ति को धनवान –

  1. कुंडली (kundli) का दूसरा भाव धन, सोना, चांदी खजाना, मोती, हीरे आदि को इंगित करता है इसके साथ ही व्यक्ति के पास स्थाई संपत्ति क्या क्या होगी इस पर भी इस आधार पर विचार किया जाता है जैसे घर, भवन-भूमि आदि.
  2. चंद्रमा का अकेला होना और किसी भी ग्रह के उससे द्वितीय या द्वादश का न होना भी उस व्यक्ति के आजीवन दरिद्र होने का संकेत होता है. ऐसे व्यक्ति को अत्यधिक परिश्रम जीवन में करना होता है, फिर भी आपेक्षित धन उसके पास नहीं रहता है.
  3. कुंडली (kundli) में यदि बुध द्वितीय भाव में उपस्थित हो और उस पर चंद्रमाँ की भी दृष्टि हो तो ऐसा व्यक्ति कड़ी मेहनत के बाद भी आसानी से धनवान नहीं बन पाता है.
  4. किसी व्यक्ति की कुंडली (kundli) के द्वितीय भाव में चंद्रमा का होना भी धनवान बनने का इशारा करता है.
  5. किसी व्यक्ति की कुंडली (kundli) में यदि द्वितीय भाव में कोई भी शुभ ग्रह हो या शुभ ग्रहों की द्वितीय भाव में दृष्टि हो, तो उसे धन की प्राप्ति होती है।
  6. नीच के बुध की दृष्टि यदि द्वितीय भाव के चंद्र पर पड़ जाए तो यह उस व्यक्ति के परिवार के धन के नष्ट होने का संकेत होता है.
  7. द्वितीय भाव में यदि किसी पाप ग्रह की दृष्टि हो तो भी व्यक्ति दरिद्र रहता है.
  8. यदि बुध और सूर्य द्वितीय भाव में स्थित हो तो ऐसा व्यक्ति फिजूल खर्ची होता है.

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here