मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया – शिवराज सरकार की चुप्पी

0
170
मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया - शिवराज सरकार की चुप्पी
मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया - शिवराज सरकार की चुप्पी
मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया – शिवराज सरकार की चुप्पी

मध्यप्रदेश में अवैध खनन माफिया की गुंडागर्दी खत्म होने का नाम नही ले रही. शिवराज सरकार ने इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी साधी हुई है. सरकार को चाहिए इस खनन को जल्द से जल्द रोके और बंद करें. अवैध खनन को लेकर पहले भी ऐसे कई मामले सामने आए है.

क्या कहा शिवराज ने :-

शिवराज ने कहा, ‘माफिया नाम के जैसा यहां कुछ नहीं है. कांग्रेस केवल हमारी छवि धूमिल करना चाहती है. घटनाएं हो सकती हैं. यह बड़ा राज्य है लेकिन हमने उन पर (घटनाओं पर) कार्रवाई की है.’  जानकारी की माने तो  पिछले गुरुवार को आईपीएस अधिकारी नरेन्द्र कुमार मोरैना में अवैध खनन वाले पत्थर से लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली को रोकने की कोशिश कर रहे थे लेकिन ट्रॉली चालक ने उन्हें कुचल दिया और उनकी मौत हो गई. उन्होने कहा, ‘कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वह बिना किसी मुद्दे के मुद्दा बना रही है.’ उन्होंने कुमार को एक अच्छा अधिकारी बताते हुए उनके परिवार को सुरक्षा देने और उनका समर्थन करने का वादा किया.

सरकार अपनी सफाई देने में थोड़ा भी नही चूक नही रही. क्या सरकार को इसकी जांच विशेष तौर पर नही देनी चाहिए. खुद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. जांच के आदेश विशेष तौर पर किए जाने चाहिए.

खनन माफिया का सत्य :-

मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया - शिवराज सरकार की चुप्पी
मध्य प्रदेश में बढ़ते खनन माफिया – शिवराज सरकार की चुप्पी

खतरनाक बात यह है कि पहले खनन माफिया एक छोटे से इलाके में खनन की अनुमति लेते है और उसके बाद वो बड़े इलाके तक अतिक्रमण कर लिया करते है इसके लिए खनन माफिया न तो कोई वसूली तक देता है और न ही उनकी कोई जिम्मेदारी ही होती है. खनन माफिया के काम का तरीका लगभग सभी जगह एक समान है क्योंकि आमतौर पर खनन के ठेके नेताओं और मंत्रियों के संबंधियों और सहयोगियों को ही दिए जाते हैं, जिस पर वे अनुमति के दायरे से बाहर जाकर काम करते हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here