महेंद्र सिंह धोनी इन्हें किसी परिचय की जरूरत नहीं है. पर इनसे जुडी खबर सामने आई है हमारे पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से नवाजा गया. भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महेंद्र सिंह धोनी को राष्ट्रपति भवन में 2 अप्रैल को इस सम्मान से नवाजा. महेंद्र सिंह धोनी आर्मी की ड्रेस में सम्मान लेने राष्ट्रपति भवन पंहुचे.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने धोनी के साथ साथ आडवाणी लोक गायिका शारदा सिन्हा, भारतीय कलाकार लक्ष्मण पई और भारत में रूस के पूर्व राजदूत अलेक्जेंडर कदाकिन (मरणोपरांत) को भी पद्म भूषण से नवाजा. भारत रत्न और पद्म विभूषण के बाद पद्म भूषण देश का तीसरा सबसे बड़ा असैन्य पुरस्कार है. राष्ट्रपति कोविंद ने राष्ट्रपति भवन के हाल में आयोजित नागरिक सम्मान समारोह में 5 पद्म भूषण और 38 पद्मश्री पुरस्कार दिए.

इसी दिन जीता था भारत ने वर्ल्डकप

पर हम आपको बता दें की महेंद्र सिंह धोनी को यह पद्म भूषण का सम्मान उसी दिन मिला जिस दिन उन्होंने इंडिया को वर्ल्ड कप जिताया था. 28 साल बाद भारत ने यह वर्ल्ड कप हासिल किया था. इसी दिन महेंद्र सिंह धोनी ने वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए वर्ल्डकप फाइनल में कुलासेकारा की आखिरी बाल पर एक ज़ोरदार छक्का लगाकर लाखों फैन्स का सपना पूरा किया था और वर्ल्ड कप इंडिया के नाम कर दिया था.

इंडियन टीम सेमीफाइनल में फाइनल में जगह बनाने के लिए पाकिस्तान को हराया था. वहीँ न्यूज़ीलैंड को परास्त कर श्रीलंका भारत से भिड़ने के लिए आई. फाइनल मैच में श्रीलंका ने ही टॉस जीता और फिर बल्लेबाजी करने का फैसला किया.

श्रीलंका की ओर से 274 रनों का लक्ष्य दिया गया जिसमे महिला जयवर्धने के 103 सर्वाधिक रन थे. भारतीय टीम ने 275 रनों का पीछा करते हुए एक ऐसा इतिहास रच दिया जो की 28 साल बाद रचा गया था. भारत की ओर से शुरुआत वीरेंद्र सहवाग (0) और सचिन तेंदुलकर (18) ये दोनों बल्लेबाज शुरुआत में ही जल्दी आउट हो गए इन्होने अपने विकेट जल्दी ही गवां दिए. पर गौतम बिल्कुल गंभीर होकर खेलते रहे और अपनी पारी को आगे बढ़ाते रहे. गंभीर ने 97 बाल पर 122 रनों की गजब की पारी खेली. गंभीर ने विराट के साथ 83 रनों की सांझेदारी की.

धोनी का एतिहासिक छक्का

उसके बाद भारत को एक बड़ा झटका लगा जो विराट (35) के रूप में था. इसके बाद  महेंद्र सिंह धोनी ने सभी को हैरान कर दिया वे युवराज सिंह की जगह खुद मैदान पर आ गए, उन्होंने 91 रनों की शानदार पारी खेली धोनी के साथ ही गंभीर ने 109 रनों की पार्टनरशिप कि और भारत अच्छे स्कोर तक पहुँच गया और धोनी ने बहुत ही शानदार छक्के से भारत के नाम वर्ल्ड कप कर दिया यह एक एतिहासिक पल था. जिसने हर किसी का दिल जीत लिया और धोनी सभी के हीरो बन गए.

आज सारा देश वर्ल्डकप की सालगिरह मन रहा है. ये भारत की 7वीं सालगिरह थी. सभी ने उस ना भूलने वाली रात की फोटो सबके साथ बांटी. और BCCI ने भी धोनी के आखिरी छक्के का विडियो शेयर किया.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here