महिला दिवस पर प्रधानमंत्री का माताओं को भेट – राष्ट्रीय पोषण मिशनप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज महिला दिवस पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम में एक से दो वर्ष की बच्चियों तथा उनकी माताओं से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय पोषण मिशन भी शुरू किया. पीएम ने इस दौरान रैली को संबोधित करते कहा अगर एक सास कहे कि घर में एक बेटी चाहिए, तो उस बेटी को कभी कोई परेशान नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि बेटी बोझ नहीं, बेटी पूरे परिवार की आन, बान और शान हैं. लिंग अनुपात में सुधार के लिए प्रधानमंत्री ने हरियाणा को बधाई दी.

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम में उन 200 महिलाओं को बुलाया गया,

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम में उन 200 महिलाओं को बुलाया गया, जिन्होंने वर्ष 2015 के बाद बेटी को जन्म दिया. प्रधानमंत्री मंच पर जाने से पहले इन महिलाओं तथा उनकी बच्चियों से मिले. माइक हाथ में लिए श्री मोदी ने बच्चियों से बात की तथा उन्हें बोलने के लिए प्रेरित किया. इस दौरान पीएम मोदी के साथ राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व कई अन्य नेता भी मौजूद रहे. ये एक नयी पहल हैं उगते भारत के भविष्य की.

ये निर्माण हैं एक ऐसे भारत की जिसका सपना हम सदियों से देखते आये हैं. ये तो बस शुरुआत हैं एक आधारशीला की.देश बचाव देश बढ़ाओ के नारे के बाद सरकार का इस विश्वास के साथ की हम सब आगे बढ़े तो देश भी आगे बढ़ेगा.उन माताओं के लिए वों समय हैं जब हम उन्हें ये जताए या ये बताये की आप हमारी लिए क्या हैं.ये दिन हमेसा यु ही रोज़ मनाया जाये. ये दिन एक दिन के लिए बस नारियों का सम्मान का नहीं हैं. हर दिन हमें इसी विचार से इसी लक्ष्य से जागना चाहए हमे सबकी इज्ज़त करनी हैं. उनका आदर करे. अनादर नहीं.

ये विचारधारा हम सबको बहुत आगे लेकर जाएगीं. ये दिन हैं गर्व का उल्लास का. हम सबको महिला दिवस पर ये प्रण करना चाहिये.

प्रमुख बिंदु हैं:-

  • महिला दिवस पर प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय पोषण मिशन की शुरुवात की.
  • प्रधानमंत्री का कहना बेटी बोझ नहीं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here