आज आतंकवाद के खिलाफ ऐसा कौन सा देश है जो नहीं लड़ रहा है. सभी चाहते हैं की हमारे देश में आतंकवाद ना फैले. आतंकवाद से कोई एक देश समस्या को नहीं झेलता पूरा अपितु पूरा विश्व उस लड़ाई को झेलता है, उस आतंकवाद से लड़ता है. हिंसा किसी को पसंद नहीं आती. आज वर्ल्ड लेवल पर भी माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने इसी आतंकवाद को दूर करने के लिए कार्यवाही कि और इसके खिलाफ बहुत अच्छा कदम उठाया है. 2015 से अभी तक ट्विटर ने 10 लाख ट्विटर एकाउंट्स को क्लोज कर दिया है. क्योंकि ये वे लोग थे जो आतंकवाद को कहीं ना कहीं बढावा देते थे. इसके लिए कई देशों ने ट्विटर पर  दबाव डाला इसके बाद ट्विटर ने इस दबाब में आकर ये कदम उठाया.

ट्विटर के द्वारा जारी वयांन – ट्विटर कोई हिंसा का प्रचार करने के लिए नहीं बना

उन्होंने अपने व्यान में कहा की हमने 10 लाख से ज्यादा आतंकवाद को बढावा देने वाले इन ट्विटर अकाउंटस को हमने क्लोज कर दिया है. ट्विटर ने अपने स्टेटमेंट में कहा है की हम ऐसा कोई हिंसा को बढाने के लिए आपको प्लेटफार्म नहीं दे रहे हैं. जहाँ आप बैठके आतंकवाद को बढ़ावा दें. इसे लोगों को हम ट्विटर एकाउंट्स से अलग कर देंगें.

जुलाई से दिसंबर के बीच डिलीट किये गये करीब 3 लाख अकाउंट

आतंक को बढ़ावा देने वाले 274,460 ट्विटर एकाउंट्स डिलीट कर दिया गया है. ट्विटर ने पिछले साल जुलाई से दिसंबर के बीच ऐसा किया है. इस कदम के बाद सोशल नेटवर्किंग साइट ने कहा- हमारी मेहनत रंग लाई.

ट्विटर के अनुसार  उसने , हाल में ही  6 महीनों के अन्दर ट्विटर ने जो ट्विटर एकाउंट्स डिलीट किए हैं, उनमें से ज्यादातर खुद ट्विटर के इंटरनल टूल्स के जरिए खोज निकले गए हैं. जिन ट्विटर एकाउंट्स की पहचान कर ली गयी है, कई ट्विटर एकाउंट्स को तो उनके पहले ट्वीट से पहले ही डिलीट कर दिया गया. कुछ समय पहले ही ट्विटर को कई देशों की सरकार ने ऐसा करने के लिए उन पर दवाब बनाया की ट्विटर आतंकियों और हिंसा फ़ैलाने वालों के खिलाफ आप कार्यवाही करें इनको फैलने से रोंकें, इस बात को ध्यान में ट्विटर ने ये कारवाही की.

रिपोर्ट में ह्यूमन राइट्स वाॅच की उस रिपोर्ट का जिक्र किया गया है, जिसमें कहा गया है कि दुनिया भर में सरकारें सोशल मीडिया पर मिलने वाली अभिव्यक्ति की आजादी पर लगाम लगाने के लिए लगातार कदम उठा रही हैं. इसके लिए सरकारें सोशल मीडिया कंपनियों को अपने नियंत्रक (सेंसर) की तरह काम करने के लिए कह रही हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here