मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय

0
393
मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय
मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय

भारत के बिज़नस टायकून के नाम से मशहुर धीरू भाई अंबानी के पुत्र मुकेश अंबानी का आज जन्मदिन है. मुकेश अंबानी आज भारतीय उद्योगपति के साथ-साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष भी है. मुकेश अंबानी का जन्म 19 अप्रैल 1957 में यमन स्तिथ अदेन शहर में धीरुभाई अंबानी और कोकिलाबेन के घर में हुआ. जानकारी के लिए बता दे धीरुभाई अंबानी उस समय यमन में काम कर रहे थे. मुकेश अंबानी मुंबई के सबसे महंगे घर Antilia में रहते है. मुकेश अंबानी कहते है 1000 रुपए से कंपनी की शुरुआत करके उन्हौंने इसे 6 लाख करोड़ की कंपनी बनाई.

मुकेश अंबानी का सम्पूर्ण व्यवसाय :-

सबसे पहले अगर बात करे मुकेश अंबानी के पिता धीरुभाई अंबानी की तो 1960 में रिलायंस कमर्शियल कारपोरेशन की शुरुआत की वो भी 50,000 रुपए में. उन्हौंने इसका ऑफिस मुंबई में बनाया जिसमे केवल 1 टेबल और 3 चेयर थे. 57 साल के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की पूर्ण संपत्ति $ 110 बिलियन जो की भारतीय राशि में 7.2 लाख करोड़ है. रिटेल से जो राजस्व प्राप्त होता है वह पूरे ग्रुप के राजस्व का 8.8% है. रिलायंस रिटेल भारतीय बाजार के सबसे बड़े रिटेल में से है अगर बात करे सबसे अधिक राजस्व की तो वो है 33,765 करोड़.

रिलायंस फ्रेश :-

मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय
मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय

रिलायंस फ्रेश जो की ताजी सब्जी और फल के लिए पुरे देश में विख्यात है. अगर इनके स्टोर की बात करें तो 500+ से ज्यादा स्टोर 80 से ज्यादा शहरों में उपलब्ध है. अब बात करें रिलायंस मार्ट और मार्केट की जो 37 से ज्यादा शहरों में सुचारू रूप से चल रहे है. इनके मेम्बर्स 2.5+ मिलियन है. रिलायंस डिजिटल की बात करें तो 1900+ से ज्यादा कन्जूमर इलेक्ट्रॉनिक्स रिटेल स्टोर्स उपलब्ध है.

रिलायंस स्टोर्स :-

रिलायंस ज्वेल 40 से ज्यादा स्टोर सम्पूर्ण भारत में मौजूद हैं.
रिलायंस ट्रेंड की बात करे तो इसके 355 स्टोर 190 शहरों में है.
रिलायंस फुटप्रिंट 200 से ज्यादा फुटवियर आउटलेट 25 से अधिक राज्यों में मौजूद है.

तेल और गैस की बात करें तो इससे राजस्व 1.4% मिलता है. 5 गैस और तेल ब्लॉक जो की कृष्णा, गोदावरी, महानंदा और इसके अलावा तेल ब्लाक को स्थापित किया. साथ ही साथ म्यांमार में दो ऑफशोर ब्लॉक भी रिलायंस के है.

रिलायंस गैस पाइपलाइन :-

मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय
मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय

अब बात करे यूएस शेल गैस एक्सप्लोरेशन के साथ ही साथ मार्सेल और ईगल फोर्ड बेसिन में संयुक्त उद्यम भी रिलायंस का ही है.
कोयला और प्राकृतिक गैस में 2 कोयले के ब्लाक और इसके साथ 1386 किलोमीटर का नेचुरल गैस पाइपलाइन रिलायंस की झोली में आता है. रिफाइनिंग और मार्केटिंग में राजस्व 65.4% ग्रुप राजस्व का आता है.

जामनगर रिफाइनरी जो की 415 एकड़ में फैली हुई है. मुकेश अंबानी ने कभी पीछे मुड़कर नही देखा और दुनियाँ का सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफायनरी, जामनगर, भारत में बनाई जो 660000 बैरल प्रति दिन भरने की क्षमता रखता है. यह 2010 में भारत की सबसे ज्यादा प्रचलीत पेट्रोलियम क्षेत्र और पावर जनरेशन के मामले में उच्च स्तर की इंडस्ट्री थी.

दो प्लांट जो कि पहला और छटवा, विश्व का सबसे बड़ा प्लांट है.
रिलायंस पेट्रोलियम 1220 से ज्यादा आउटलेट है. बात करें मार्केट शेयर की तो वो 5% है. पेट्रोकेमिकल्स पर 24% का राजस्व लगता है. पॉलिस्टर फाइबर और यार्न के सबसे बड़े उत्पादक में से एक है. गुजरात में स्थित पैराएक्सलेन विनिर्माण परिसर विश्व का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है.

रिलायंस जियो :-

रिलायंस ने टेलिकॉम क्षेत्र में कदम रखा और इसके साथ ही रिलायंस का नाम रिलायंस जियो के साथ एक ऐसे आंधी टेलिकॉम क्षेत्र में आई जिससे सारी कंपनीज़ को इससे घाटा तो हुआ ही हुआ साथ ही जियो ने अपने क्षेत्र का विकास सम्पूर्ण भारत पर बनाए रखा. रिलायंस जियो ने इसके साथ विश्व रिकॉर्ड बनाया जिसने अपने लांच के पहले महीने में ही 1.6 करोड़ सब्सक्राइबर बना डाला जो की रिकॉर्ड है. अब की बात करे तो 125 करोड़ से भी ज्यादा सब्सक्राइबर जियो से जुड़े हुए है.

जब बात टेलिकॉम की हुई हो और मोबाइल का नाम ना लिया ऐसे कैसे हो सकता है?

LYF Mobile भारत के सबसे बड़े मोबाइल प्रदायक (पूर्तिकर्ता) समूचे भारत में रहा है. रिलायंस फाउंडेशन की बात करे तो 2016 में 674 करोड़ रूपये रिलायंस ने डोनेशन के तौर पर दिए, जिसमे 100000 से भी ज्यादा शिक्षा से वंचित रहे बच्चों के लिए सम्पूर्ण शिक्षा का भार रिलायंस ग्रुप उठाएगी.

पिता की उन 4 बातों से कैसे मुकेश बने अमीर :-

कहते है सफलता यूँ ही किसी के अंदर नही आ जाती उसके लिए परिश्रम, त्याग, मेहनत, समर्पण सब कुछ झोंक देना होता है. मगर आपको देश का सबसे अमीर नागरिक बनना है तो आपको इससे कही ज्यादा इससे कई गुना अधिक दिमाग के साथ-साथ लगन की आवश्यकता होगी. वो 4 बातें बस महज बातें ना होकर मुकेश के लिए मंत्र की तरह थी जिससे मुकेश अंबानी ने अपने जीवन में उतारा और जिसकी वजह से उनका नाम अमीर लोगों की सूची में लिया जाता है.

  1. बिज़नस में रिलेशनशिप नही पार्टनरशिप :-

    मुकेश अंबानी की माने तो उन्होने रिलायंस जियो के लांच के बाद अपने एक इंटरव्यू मे कहा था उनके पिता धीरुभाई अंबानी उन्हें बेटे की तरह नही बल्कि बिज़नस पार्टनर की तरह मानते थे. इसी विचार को आगे बढ़ाते हुए मुकेश अंबानी का भी यही मानना है वे भी अपने बच्चों को बिज़नस पार्टनर मानते है. मुकेश अंबानी कहते है उनके पिता हमेशा कहा करते थे बिज़नस में रिलेशनशिप नही पार्टनरशिप चलती है.

  2. एक बिज़नस मैन को पता होता है क्या करना है :-

    धीरुभाई अंबानी का मानना था कोई भी काम शुरू करने से पहले आपको ये पता होना चाहिए आपका लक्ष्य क्या है तभी जाकर आप उस लक्ष्य तक पहुच सकते है. बिना लक्ष्य के भागने से कुछ हाँसिल नही होता.

  3. नाकामियों से ना डरकर उनसे सीखे ,कभी हार ना माने :-

    मुकेश अंबानी के पिता धीरुभाई अंबानी का मानना था हर व्यक्ति को सफलता असफलता का सामना करना पड़ता है. इसलिए उससे ना डरकर उनका डटकर सामना करना चाहिए. मुकेश अंबानी की माने तो उन्हें भी कितनी बार नाकामी हाथ लगी लेकिन ये उनके पिता जी के शब्द थे जिसने उन्हें डटकर सामना करने का बाल दिया.

  4. हमेशा पॉजिटिव रहे :-

    आप चाहे कोई भी काम करें उसमे सही और पॉजिटिव सोचे आपको सफलता अवश्य मिलेगी. कई बार ऐसा होता है की आपके आस-पास नेगेटिव उर्जा मंडराती रहती है. लेकिन आप हमेशा पॉजिटिव सोचे.

क्या अंतर है अनिल और मुकेश अंबानी की सोच जो दोनों को अलग बनाता है:-

अनिल अंबानी और मुकेश अंबानी दोनों भारत के अग्रणी उद्योगपति में गिने जाते है. अनिल अंबानी जहाँ बिज़नस के साथ-साथ राजनीति में भी रूचि रखते है. वही मुकेश अपने बिज़नस के प्रति ध्यान लगाते है. अनिल राज्य सभा के भी निर्वाचित हो चुके है. बाद में जब उन्हें ये लगा की राजनीति की अपेक्षा अपने बिज़नस पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं, तो उन्होने राजनीति छोड़ दी और राज्य सभा के पद से इस्तीफा भी दे दिया.

1. मुकेश और अनिल की शादी :-

मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय
मुकेश अंबानी : उपलब्धियाँ और सम्पूर्ण व्यवसाय

मुकेश ने जहाँ नीता से शादी की. जिनके दो बेटे आकाश, अनंत और एक बेटी ईशा है. वही अनिल अंबानी ने अभिनेत्री टीना से शादी की जिनके दो बेटे अमोल और जय अंशुल है.

  1. अनिल और मुकेश की पढ़ाई :-

    बात करें अनिल और मुकेश की तो अनिल ने जहाँ मुंबई युनिवर्सिटी से आर्ट/साइंस में ग्रेज्युएट करने के बाद युनिवर्सिटी ऑफ पेनिसिल्वेनिया के व्हार्टन स्कूल से एमबीए की डिग्री हासिल की. वही मुकेश अंबानी ने केमिकल इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी डिपार्टमेंट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी से की. उन्हौंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से एम बी ए में दाखिला लिया, लेकिन मुकेश अम्बानी ने अपने पिता के काम में हाथ बटाने की वजह से पढ़ाई बीच में छोड़ दी और पातालगंगा पेट्रोकेमिकल की स्थापना में जुट गए.

  2. मुकेश रिलायंस ग्रुप से जुड़े :-

    मुकेश रिलायंस ग्रुप से 1981 में जुड़े और उन्हौंने ग्रुप के कपड़े उद्योग को आगे बढ़ाने में खासा सहयोग दिया. साथ ही साथ पेट्रोकेमिकल को सँभालने में भी जुट गए. इसके साथ ही उन्हौंने 60 वर्ल्ड क्लास फैकल्टी तैयार करायी जिससे विनिर्माण को 10 लाख टन से बढ़ाकर 12 मिलियन तक कर दिया.

  3. दोनों भाइयो के बीच विवाद :-

    धीरुभाई अंबानी की 2002 में मौत होने के बाद दोनों भाई के बीच में खासा विवाद बढ़ा. इसी विवाद को देखते हुए उनकी माँ कोकिलाबेन ने लाखों करोड़ रुपए की सम्पति का बंटवारा कर दिया.

  4. अनिल और मुकेश के पास के कंपनी जो है :-

    मुकेश अंबानी के पास जो कंपनी है उसमे पेट्रोकेमिकल फ्लैगशिप, रिलायंस इंडस्ट्रीज, इंडियन पेट्रोकेमिकल कारपोरेशन लिमिटेड, रिलायंस इंडस्ट्रीज इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ ही साथ रिलायंस का टाईटल भी है. अब बात करें अनिल अंबानी की तो अनिल धीरुभाई अंबानी ग्रुप, रिलायंस कम्युनिकेशन, रिलायंस कैपिटल, रिलायंस एनर्जी, रिलायंस नेचुरल रिसोर्स लिमिटेड के मालिक हैं.

  5. दोनों भाईयों की फिलोसफी है अलग :-

    मुकेश अंबानी की बिज़नस फिलोसफी हमेशा से उनके पिता धीरुभाई अंबानी से तुलना की जाती है. ऐसा भी कहा जाता है की मुकेश अगले धीरू भाई अंबानी है. वही अगर बात करे अनिल अंबानी की तो वो अपने बिज़नस को अलग तरीके से आगे बढ़ाते है. अनिल नए युग के बिज़नस सिद्धांत की तरह सोच रखते है और इसी तरह अपने बिज़नस को आगे भी बढ़ाते है. ऐसा भी कहा जाता है अगर दोनों भाई एक साथ होते तो धरती पर सबसे धनि व्यक्ति होते.

  6. अनिल जहाँ जुड़े राजनीति से वही मुकेश का नही है इन सब से वास्ता :-

    मुकेश अंबानी कभी भी किसी भी तौर पर राजनीति से नही जुड़े. वही अगर बात करे अनिल अंबानी की तो राज्य  सभा में स्वंत्र सदस्य के तौर पर रहे. 2004 में समाजवादी की मदद से राज्यसभा में पहुंचे लेकिन 2006 में उन्हौंने इस पद से त्यागपत्र दे दिया.

  7. मुकेश और अनिल की उपलब्धियाँ :-

    मुकेश अंबानी की उपलब्धि में सबसे बड़ी बात ये रह चुकी है वे एक समय में दुनियाँ के सबसे रईस लोगों में में भी घोषित किए जा चुके है. 2007 में उन्हें यूनाइटेड स्टेट इंडिया बिज़नस काउंसिल के लिए ग्लोबल विजन अवार्ड भी दिया गया है. उन्हें 42वे सबसे सम्मानित बिज़नस उद्योगपति के रूप में और भारत के दूसरे सीइओ के रूप में एक सर्वे के आधार पर चुना गया था.
    वही अनिल अंबानी 2006 में उन्हें बिज़नस मैन ऑफ़ द ईयर – टाइम्स ऑफ इंडिया के हुए पोल द्वारा घोषित किया. वही उन्हें 2004 में ग्लोबल एनर्जी का अवार्ड भी दिया गया.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here