मुंबई की रेल पटरियों पर छात्रों का धरना – सड़कों पर भारी ट्रेफिकदेश की आर्थिक राजधानी मुंबई में मंगलवार सुबह छात्रों ने लोकल रेल को रोक दिया है. रेलवे में स्थायी नौकरी की मांग को लेकर माटुंगा और दादर के बीच ट्रेनी अप्रैंटिंस ने ट्रैक पर जाम लगा दिया है. छात्रों के हंगामे के कारण यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामने करना पड़ रहा है.

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि 20 फीसदी कोटा को हटा दिया जाए और स्थायी नौकरी दे दी जाए. प्रदर्शन के बीच रेलमंत्री पीयूष गोयल थोड़ी देर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वह पिछले 4 साल से शांतिपूर्ण अपनी मांग को उठा रहे हैं, लेकिन सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है.

मनसे के संदीप देशपांडे ने आजतक से कहा कि जब तक रेल मंत्री पीयूष गोयल लिखित में आश्वासन नहीं देते हैं, तब तक वहां से कोई नहीं हटेगा. इस प्रदर्शन के कारण मुंबई के मशहूर डब्बावालों के काम पर भी असर पड़ा है. डब्बावाले कुर्ला इलाके से ही लोकल ट्रेन के जरिए अपनी सर्विस को आगे बढ़ाते हैं.

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया है. प्रदर्शन के बाद सेंट्रल लाइन पर करीब 30 ट्रेनें रद्द हो गई हैं. रेलवे की ओर से हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है. (हेल्पलाइन नंबर – 23004000) प्रदर्शन के असर को देखते हुए कुर्ला इलाके में बेस्ट की अतिरिक्त बसें चलाई जाएंगी ताकि यात्रियों को परेशानी ना हो पाए. प्रदर्शन के बीच सेंट्रल रेलवे की ओर से भी ट्विटर पर ताजा रूट की जानकारियां दी जा रही हैं.

बीजेपी सांसद किरीट सोमैया ने इस मुद्दे पर ट्वीट किया कि मैंने इस मुद्दे पर पीयूष गोयल से बात की है. उन्होंने आंदोलन कार्यकर्ताओं से बात करने की मांग को स्वीकार किया है. मैं कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि आंदोलन को रोकें और बात करें.दूसरी तरफ, NCP नेता सुप्रिया सुले ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्किल इंडिया की बात करते हैं लेकिन रेल मंत्रालय इन छात्रों को नौकरी नहीं दे रहा है. इसी बीच खबर ये आ रही है कांग्रेस का पूर्ण सहयोग हैं छात्रों के प्रति. कांग्रेस का ये भी हैं छात्रों के प्रति संवेदनशील हैं.

मुंबई में Main Divisions क्या क्या हैं?

दो क्षेत्रीय रेलवे नेटवर्क अर्थात पश्चिमी रेलवे और मध्य रेलवे विशाल उपनगरीय लोकल ट्रेन नेटवर्क चलाते हैं. वे लंबी दूरी की गाड़ियों के लिए corridor  भी प्रदान करते हैं. मुंबई उपनगरीय रेलवे प्रणाली को चार भागों में विभाजित किया गया हैं जिससे यह सुचारु रूप से कार्य कर सके और ये केंद्रीय रेखा, पश्चिमी रेखा, हार्बर लाइन और ठाणे-वाशी-पनवेल लाइन हैं. विशाल मार्गों को कवर करने के लिए इन मार्गों को फिर से कई लाइनों में बांटा गया हैं.

प्रमुख बिंदु:-

  • छात्रों का मुंबई रेल पटरी पर हंगामा
  • उनकी मांग 20% कोटा हटे और स्थायी नौकरी दे सरकार.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here