NEET परीक्षा मे आधार कार्ड जरुरी नहीँ –सुप्रीम कोर्ट सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्र सरकार को आधार कार्ड  एनईटी सहित किसी भी प्रवेश परीक्षा में अनिवार्य 12-अंकों की पहचान संख्या अनिवार्य नहीं रहेंगी. जब तक इसकी वैधता का फैसला नहीं किया जाता तब तक के लिए.यूआईडी स्कीम की वैधता की जांच करते हुए पांच न्यायाधीश की  पीठ ने, अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल का बयान दर्ज किया कि छात्रों को अन्य पहचान प्रमाण जैसे राशन कार्ड, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग और बैंक खाते लाना अनिवार्य हैं.ऐसा करने करने के बाद ही परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी.

यह अंतरिम आदेश पारित करने के बाद यह सूचित किया गया था कि सीबीएसई ने राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा

यह अंतरिम आदेश पारित करने के बाद यह सूचित किया गया था कि सीबीएसई ने राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (NEET-2018) के लिए उपस्थित होने वाले मेडिकल छात्रों के लिए आधार अनिवार्य बना दिया था. बोर्ड ने MBBS और BDS पाठ्यक्रमों में भी प्रवेश के लिए NEET आवेदन भरने के लिए आधार अनिवार्य कर दिया था. केवल असम, जम्मू और कश्मीर और मेघालय के निवासियों को पंजीकरण के लिए अपने आधार विवरण प्रदान करने से छूट दी गई थी.

अदालत ने एक महत्वपूर्ण अवलोकन भी किया जब उन्होनें केंद्र सरकार को वित्तीय वर्ष के अंत में अनिश्चितता और भ्रम से बचने के लिए बैंक खातों और मोबाइल कनेक्शन के साथ आधार संख्या को  अनिवार्य बनाने के संबंध के लिए 31 मार्च की समय सीमा का विस्तार करने के बारे में निर्णय लेने को कहा.केंद्र को इस बारे मे शीघ्र ही निर्णय लेना चाहए.

इसके साथ की आधार कार्ड जिनके पास नहीं था उनके लिए राहत की सांस हैं.या यु कहे जिनको आधार कार्ड ले जाने ले आने मे दिक्कत होती हैं उनके लिए भी.आधार कार्ड ना सही अन्य पहचान पत्र की जरुरी रखने की भी हिदायत सुप्रीम कोर्ट ने दी. क्या इससे छात्रों की मुश्किलें कम होंगी?.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • सुप्रीम कोर्ट का कहना आधार कार्ड जरुरी नहीं परीक्षा मे समिल्होने के लिए.
  • अन्य पहचान पत्र ला सकते हैं छात्र परीक्षा मे.
  • सर्वोच्च न्यायालय का कहना बैंक खाता और मोबाइल कनेक्शन को आधार कार्ड से जोड़ने की प्रक्रिया जल्द करे समाप्त.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here