नहीं रहे Stephen Hawking दुनियाँ के जाने माने वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 साल की उम्र में निधन हो गया है. वो एक ऐसी बीमारी से पीड़ित थे, जिसके चलते उनके शरीर के कई हिस्सों पर लकवा लग गया था. लेकिन इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और विज्ञान के क्षेत्र में नई खोज जारी रखी.

हॉकिंग ने सापेक्षता (रिलेटिविटी), ब्लैक होल और बिग बैंग थ्योरी को समझने में अहम भूमिका निभाई थी. ऐसे योद्धा ऐसे  महान वैज्ञानिक का अंत हो गया. ये बहुत बड़ी क्षति हैं पुरे विश्व के लिए.

उनकी जिंदगी पर एक संछिप्त में देखा जाए तो वों इस प्रकार रही :-

साल 1942 में 8 जनवरी को स्टीफ़न का जन्म इंग्लैंड के ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ था. फिर साल 1959 में वो नेचुरल साइंस की पढ़ाई करने ऑक्सफ़ोर्ड पहुंचे और इसके बाद कैम्ब्रिज में पीएचडी के लिए गए. इसके बाद साल 1963 में पता चला कि वो मोटर न्यूरॉन बीमारी से पीड़ित हैं और ऐसा कहा गया कि वो महज दो साल जी पाएंगे.

इसके बाद साल 1988 में उनकी किताब ए ब्रीफ़ हिस्टरी ऑफ़ टाइम आई जिसकी एक करोड़ से ज़्यादा प्रतियां बिक्री हुईं. अब साल 2014 में उनके जीवन पर द थ्योरी ऑफ़ एवरीथिंग बनी जिसमें एडी रेडमैन ने हॉकिंग का किरदार अदा किया था.

ब्रह्माण्ड को समझने में अपनी भूमिका निभाई:-

उन्हें अगर आप व्हील चेयर पर कोई देखता तो वों आम आदमी की तरह दिखते थे. अपनी खोज के बारे में हॉकिंग का कहना था “मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि मैंने ब्रह्माण्ड को समझने में अपनी भूमिका निभाई. इसके रहस्य लोगों के खोले और इस पर किये गये शोध में अपना योगदान दे पाया. मुझे गर्व होता है जब लोगों की भीड़ मेरे काम को जानना चाहती हैं.”

प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग को 13 Honorary डिग्री हैं. उन्हें सीबीई (1 982), कंपेनियन ऑफ़ ऑनर (1 9 8 9) और Presidential Medal of Freedom (2009)  में सम्मानित किया गया था. उन्हें कई पुरस्कार, पदक और पुरस्कार भी मिले, जिनमें से सबसे ज्यादा मौलिक भौतिकी पुरस्कार (2013), Copley Medal (2006) और वुल्फ फाउंडेशन पुरस्कार (1988) शामिल हैं. वह रॉयल सोसाइटी के मेम्बर भी रह चुके हैं और अमेरिका के नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज और Pontifical Academy of Sciences के सदस्य भी हैं.

प्रमुख बिंदु इस प्रकार हैं:-

  • Stephen Hawking का हुआ निधन.
  • लकवा से थे पीड़ित.
  • अमूल्य योगदान रहा उनका विज्ञान की क्षेत्र में.
  • ब्रह्माण्ड को समझने में अपनी अहम भूमिका निभाई.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here