Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं
Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं

Pakistaan आतंकी देशों की मदद करने वाले देशों की लिस्ट में फिर शुमार हो गया है. पाकिस्तान सरकार ने खुद ये रिपोर्ट्स दी है. इस कार्रवाई के बाद उसके दूसरे देशों से बैंकिंग लेनदेन खत्म हो जाएंगे, जिसका असर पाकिस्तान की इकोनॉमी पर पड़ेगा. फोर्स टेरर एक्शन फाइनेंसिंग वॉचलिस्ट (FATF) की यह ग्रे-लिस्ट में जून में जारी की जाएगी. बता दें कि FATF उन देशों की एक्टिविटीज पर नजर रखता है जो आतंकियों को किसी भी तरह की मदद मुहैया कराते हैं. पाकिस्तान 2015 तक तीन साल इस लिस्ट में रहा.

FATF क्या है

FATF उन देशों की एक्टिविटीज पर नजर रखता है जो आतंकियों को किसी भी तरह की मदद मुहैया कराते हैं। ये फोर्स लिस्ट में शामिल देशों के आर्थिक संस्थानों पर भी कड़ी नजर रखती है, जिससे पाकिस्तान को बिजनेस में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

क्या हाफिज सईद पर कार्रवाई बचने के लिए की गयी

Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं
Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं

पाक ने कुछ दिनों पहले इस लिस्ट में शामिल होने से बचने के लिए हाफिज सईद से जुड़े संगठनों पर कार्रवाई भी की थी. लेकिन पाकिस्तान फिर भी इस लिस्ट में शामिल होने से नहीं बच सका.

 

America ने डाला था अन्य सदस्य देशों पर दबाव

Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं
Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं

Pakistan को एफएटीएफ की ग्रे-लिस्ट में शामिल करने के लिए अमेरिका ने सदस्य देशों पर दबाव डाला था. अमेरिका पाकिस्तान पर लगातार आतंकी संगठनों से संपर्क खत्म करने और पड़ोसी देशों में हो रहे हमले में उनकी मदद करने पर नाराजगी जाहिर कर रहा है. चीन और सऊदी अरब शुरुआत में अमेरिका का विरोध कर रहे थे, लेकिन भारत से चीन की बातचीत के बाद पाकिस्तान इस मुद्दे पर अकेला पड़ गया.

 

लिस्ट में कैसे और क्यों शामिल हुआ पाक

America ने पिछले दिनों आतंकियों के खिलाफ सही कदम ना उठाने की वजह से पाकिस्तान को FATF FATF लिस्ट में डालने का प्रस्ताव रखा था. भारत, फ्रांस और ब्रिटेन ने अमेरिका के इस प्रस्ताव का समर्थन किया था. रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन, सउदी अरब और तुर्की ने पाकिस्तान को इस लिस्ट में डालने का विरोध किया था, लेकिन बाद में इन देशों ने भी अपना समर्थन वापस ले लिया. बता दें कि FATF की लिस्ट में अभी इथोपिया, श्रीलंका, सर्बिया, सीरिया, त्रिनिदाद एंड टोबैगो, ट्यूनिशिया, वनुआतु, यमन और इराक जैसे देश शामिल हैं.

Pakistan विदेश मंत्रालय ने भी की इस बात की पुष्टी

Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं
Pakistan आतंकी देशो की मदद करने वालो की FATF लिस्ट मैं

पाकिस्तानी समाचार पत्र डॉन के मुताबिक, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने कहा कि पाक को FTAF की ग्रे-लिस्ट में शामिल किया गया है, लेकिन उन्हें भरोसा है कि उसे एंटी मनी लॉन्ड्रिंग वॉच की ब्लैक लिस्ट में शामिल नहीं किया जाएगा.पाकिस्तान के officers और विश्लेषकों को  डर है कि FATF लिस्ट में शामिल होने से pakistan के दूसरे देशों से Banking कनेक्शन टूट जाएंगे. जिससे आम चुनाव नजदीक आते-आते अर्थव्यवस्था के लिए दिक्कतें खड़ी हो जाएंगी.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here