नागिन डांस बांग्लादेशी टीम का विक्टरी साइन बन गया है. इन दिनों अपनी जीत का जश्न बांग्लादेशी टीम इसी अंदाज में मना रही है. शुक्रवार को टूर्नमेंट के आखिरी लीग मैच में जब बांग्लादेश ने मेजबान टीम श्री लंका को हराकर टूर्नमेंट के खिताबी मुकाबले में क्वॉलिफाइ कर लिया. बांग्लादेश की पूरी टीम ने इस यादगार जीत का जश्न मैदान पर नागिन डांस कर के मनाया. इससे पहले श्री लंका के खिलाफ पिछले मैच में विकेटकीपर-बल्लेबाज मुशफिकुर रहीम ने 35 बॉल पर 72 रन की पारी खेलकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी, तब उन्होंने भी इस जीत का जश्न नागिन डांस कर के ही मनाया था.

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरी श्रीलंका ने निर्धारित 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 159 रन बनाए. इस बीच कुशल परेरा ने थिसारा परेरा के साथ मिलकर 97 रन की साझेदारी की.

टारगेट का पीछा करते हुए बांग्लादेश ने 19.5 ओवर में 2 विकेट शेष रहते जीत दर्ज कर ली. बांग्लादेश को पहला झटका लिटन दास के रूप में लगा. दास बगैर खाता खोले ही पवेलियन लौटे उनके बाद शब्बीर रहमान (13) भी कुछ खास नहीं कर सके. हालांकि सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल एक छोर पर टिके रहे. तमीम ने 42 गेंदों में 50 रन की शानदार पारी खेली. वहीं महमुदुल्ला ने 18 बॉल पर तेजतर्रार 43 रन बनाए. मैच अंतिम ओवर में बेहद रोमांचक मोड़ पर आ गया था.  महमुदुल्लाह ने ओवर की पांचवीं बॉल पर शानदार छक्का लगा टीम को जीत दिलाई. बांग्लादेश का सामना फाइनल में भारत से होगा.

क्यों शाकिब अपने खिलाडियों को वापस पविलियन बुलाने लगे?

कोलंबो के आर. प्रेमदासा स्टेडियम में बैठे हजारों दर्शक उस वक्त हैरान रह गए, जब निदाहास ट्रोफी के छठे मुकाबले के आखिरी ओवर में बांग्लादेशी कप्तान शाकिब अल हसन अचानक अपने खिलाड़ियों को वापस पविलियन बुलाने लगे. यही नहीं, इस दौरान बांग्लादेशी और श्री लंकाई क्रिकेटरों के बीच गर्मागर्म बहस भी हुई. हालांकि, लगभग 5 मिनट तक चले इस घटनाक्रम का खात्मा किया पूर्व बांग्लादेशी क्रिकेटर खालिद महमूद ने किया उनके समझाने के बाद शाकिब ने अपने खिलाड़ियों को खेलने के लिए भेजा. अगर बांग्लादेशी बल्लेबाज बैटिंग के लिए नहीं जाते तो टीम को टूर्नमेंट से डिस्क्वालीफाई कर दिया जाता.

छक्का लगाकर बांग्लादेश को जीत दिलाने वाले महमूदुल्लाह ने मैच के बाद बताया कि आखिरी ओवर की शुरुआती दोनों गेंदें कंधे से ऊपर थीं और फील्ड अंपायर ने नो-बॉल नहीं दिया. इसकी वजह से हमने विरोध जताया. बता दें कि यह ओवर उदाना कर रहे थे. पहली गेंद पर मुस्तफिजुर रहमान कोई रन नहीं बना पाए, जबकि दूसरी गेंद पर मुस्तफिजुर रन आउट हो गए थे. जब यह घटना घटी तो बांग्लादेश को जीत के लिए 4 बॉल में 12 रन चाहिए थे. महमूदुल्लाह (31) और रुबेल हुसैन (0) क्रीज पर थे.

महमूदुल्लाह ने अगली 3 गेंदों में खत्म किया मैच

जब दोनों बल्लेबाज वापस क्रीज पर पहुंचे तब भी दोनों देशों के खिलाड़ियों में गुस्सा साफ देखा जा सकता था. महमूदुल्लाह (43 रन) ने ओवर की तीसरी गेंद पर चौका, चौथी गेंद पर 2 रन और 5वीं गेंद को छक्का लगाकर बांग्लादेश को एक गेंद शेष रहते जीत दिला दी. बांग्लादेश टीम की फाइनल में भिड़ंत भारत से 18 मार्च को इसी मैदान होगी.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here