सिनाई में क्या हों रहा हैं और क्यूँ?विद्रोहियों:- सीनाई जो की मिस्त्र में है यहाँ विद्रोहियों के खिलाफ सुरक्षा कार्रवाई सन 2000 से चली आ  रही हैं, लेकिन विद्रोहियों ने 2013 में सैन्य तख्तापलट के बाद ये निर्णय लिया था. 2014 के अंतिम समय में मिस्र ने इस क्षेत्र में आपातकाल की घोषणा की थी, जबकि सिनाई के सबसे सक्रिय सशस्त्र समूह ने आईएसआईएल को अपना वादा पूरा किया था. इसके बाद क्षेत्र में आपातकालीन की स्तिथि घोषित कर दी गई थी.

अतिरिक्त बेड और कर्मियों की तैयारी करने का आदेश दिया हैं

2018 अभियान: शुक्रवार को एक प्रमुख अभियान शुभारंभ के दौरान मिस्र के जमीन, वायु और नौसेना बलों के साथ सीमा गार्ड और पुलिस के साथ अभियान शुरू किया था. सेना ने आपातकाल और चिकित्सा निकासी से निपटने के लिए अस्पतालों को हाई अलर्ट, अतिरिक्त बेड और कर्मियों की तैयारी करने का आदेश दिया हैं. क्या इसमें सिनाई वासियों का कोई दोष हैं?.

सैनिकों: 9 फरवरी को सिनाई में सैन्य अभियान की शुरुआत के बाद से 22 मिस्र के सैनिकों की मौत हो गई हैं. 19 मार्च को नवीनतम सैन्य बयान के अनुसार, “एक अधिकारी और तीन कपटों की हत्या हुई”, जबकि तीन सेना के अधिकारियों समेत आठ सैनिक घायल हो गए थे.

विद्रोहियों: पिछले पांच दिनों में उत्तर सिनाई शहर अरीश में सेना के साथ संघर्ष में मारे गए 36 लोग मारे गए. अब तक 3,100 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है, जिनमें से पिछले पांच दिनों में इनकी तादाद 345 थी.

मिस्र के उत्तरी और मध्य सिनाई में पिछले पांच दिनों में सेना की कार्रवाई में कम से कम 36 आतंकवादी मारे गये. अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. उत्तरी और मध्य सिनाई में आतंकवाद के खात्मे के लिए फरवरी की शुरूआत में आरंभ किये गये एक व्यापक अभियान के तहत यह कार्रवाई की गई. मिस्र के सैन्य बलों ने एक बयान में बताया कि लगभग 345 संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें कई वांछित आतंकवादी भी शामिल हैं.

सेना के इन छापों के दौरान एक अधिकारी

सेना के इन छापों के दौरान एक अधिकारी और तीन रंगरुटों की मौत हो गई, जबकि एक गैर-कमीशन अधिकारी और पांच जवान घायल हो गये. सशस्त्र बलों ने बताया कि कार्रवाई के दौरान आतंकवादियों के 386 ठिकानों को नष्ट किया गया. बयान में बताया गया है कि 17 वाहनों और 67 बिना लाइसेंस की मोटरबाइक को जब्त किया गया और नष्ट भी कर दिया गया.

हमलों: सिनाई में कुछ सशस्त्र समूहों ने कथित तौर पर मिस्र में सैकड़ों लोगों को मारने वाले कई हमलों की जिम्मेदारी ली हैं. सेना के ऑपरेशन की घोषणा करते हुए आधिकारिक बयान में कहा गया हैं कि अभियान “आतंकवादी और आपराधिक तत्वों के खिलाफ टकराव” हैं और “मिस्र के राज्यों के बंदरगाहों को नियंत्रण में करने” का इरादा हैं.

एशोर ने कहा “जब तख्तापलट 2013 में हुआ था, तो आपने एक बढ़ोतरी देखी थी. तख्तापलट और ये आपरेशन का पूरा विचार था कि सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी आतंकवाद को लागू किया जाना चाहिए, आंशिक रूप से सिनाई में और अन्य जगहों पर भी ऐसा होना चाहिए “.

ग्रेटर गाजा: अन्य लोगों ने गाजा और उत्तरी सिनाई में एक फिलीस्तीनी राज्य बनाने का इजरायल प्रस्ताव पढ़ा था, जहां लाखों फिलीस्तीनी शरणार्थियों का अंत संभवतः हो सकता था.

प्रमुख बिंदु:-

  • सिनाई में विद्रोहियों के खिलाफ सुरक्षा कार्रवाई 2000 से चली आ रही हैं.
  • 386 ठिकानों को नष्ट किया गया.
  • सिनाई में कुछ सशस्त्र समूहों ने इसकी जानकारी ली हैं.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here