शिलांग, 19 फरवरी: सोमवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) कि महिला अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा कि, मेघालय में कांग्रेस को सत्ता में जाने के लिए कांग्रेस महिलाओं को मुफ्त सेनेटरी नैपकिन देने का वादा करती है. राज्य मे 27 फरवरी को चुनाव है. देव ने कहा कि उन्होंने केंद्र और वित्त मंत्री से अनुरोध किया है कि वे सैनिटरी नैपकिन पर जीएसटी को छूट दें.

अगर इसमें जीएसटी की छूट मिलती है, तो यह एक ऐसा उत्पाद बन जायेगा, जो कि ग्रामीण बाजार में सस्ता हो जायेगा और निजी companies इसे वहां ले जाएगी. देव ने दावा किया कि मेघालय में भाजपा एक भी सीट नहीं जीत पाएगी, और free सैनिटरी नैपकिन का ये वादा कांग्रेस पूरा करेगी. उन्होंने महिलाओं के प्रति सुरक्षा के बारे में गंभीर ना होने के लिए बीजेपी पर आरोप लगाया है.

2012 निर्भया मामले के बाद, हमने बहुत से कानूनों को बदल दिया, लेकिन हाल ही में एनसीआरबी आंकड़े बताते हैं कि, महिलाओं के खिलाफ अपराध का स्तर अब और भी ऊपर चला गया है. उन्होंने कहा कि निर्भया के 60 प्रतिशत निधि ‘अप्रयुक्त’ है. इस राशि को उपयोग में नहीं लाया जा रहा है.

सुष्मिता देव ने स्मृति ईरानी पर भी निशाना साधा

देव ने श्रीनगर में शनिवार को प्रचार करने वाली केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर भी निशाना साधा उन्होंने कहा,  हमें भाजपा के नेताओं से बहुत सवाल पूछने की जरूरत है जो मेघालय आ रहे हैं और महिलाओं की सुरक्षा के बारे में बात कर रहे हैं.

कॉंग्रेस ने गुजरात में भी छात्राओं को मुफ्त सैनिटरी नैपकिन बांटे थे, अखिल भारतीय महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने घोषणा की कि सैनिटरी नैपकिन कांग्रेस सरकार में मुफ्त मिलेगी. देव ने नरेंद्र मोदी सरकार से सैनिटरी नैपकिन पर 12 प्रतिशत ‘जीएसटी लागू करने पर भी हमला किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि लड़कियों के लिए सरकार की’ बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के विपरीत है.  

देव ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा सैनिटरी नैपकिन पर 12 प्रतिशत जीएसटी के कारण गरीब लड़कियों और महिलाओं को एक बड़ा धक्का लगा है. मोदी सरकार ने कई NGO और महिला संगठन की मांगों के बावजूद टैक्स (सैनिटरी नैपकिन पर) कम नहीं किया, हालांकि अन्य कुछ बस्तुओ पर टैक्स कम कर दिया गया.

इन सभी बातों को सुनकर हम कह सकते कि पैड मैन मूवी की वजह से आज सरकार इन बातों को गंभीर रूप से देखने लगी हैं. और इस मुद्दे पर राजनीति भी करने लगी है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here