ट्रेन रोकी गई -आतंकियों पर जवाबी कार्यवाई श्री नगर के खानमोह में एक मुठभेड़ में मारे गए दो आतंकवादियों के शवों को जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को बरामद किया.  मारे गए आतंकवादियों से हथियारों और अन्य अपमानजनक सामग्री एवं कैश भी जब्त कर लिया गया. इस संबंध में मामला दर्ज किया गया हैं. और जांच चल रही हैं. श्रीनगर शहर के बाहरी इलाके में एक भाजपा नेता पर हमला होने के बाद एक आतंकवादी मारा गया और गुरुवार को एक एसएचओ सहित तीन पुलिसकर्मी भी घायल हुए. क्या आतंकवादी इतने बड़ी संख्या में हो गये जब मन चाहे तब हमला बोल देंगे?.

सुरक्षा कर्मियों से सर्विस राइफल छीनने का प्रयास:-

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक गुरुवार को अनवार खान अपने दो निजी सुरक्षाकर्मियों के साथ जा रहे थे. बीजेपी नेता की गाड़ी जैसे ही कालापंथ चौक के पास अराशा मेडिकल कॉलेज से गुजरी आतंकियों ने उन पर हमला बोल दिया. आतंकियों ने खान की सुरक्षा में तैनात कर्मियों से उनकी सर्विस राइफल्स को छीनने की कोशिश की. आखिर आतंकवादी चाहते क्या हैं?.

आतंकियों के हमले का करार जवाब देते हुए खान की सुरक्षा में तैनात एक गार्ड घायल हो गया. गार्ड की ओर से की गई फायरिंग के बाद आतंकी भाग निकले. जिसके बाद आतंकवादी वहाँ से भाग गए और बालमा गाँव में जाकर शरण ले ली.

सुरक्षा कर्मियों ने तुरंत गांव को घेर लिया और गोलीबारी शुरू हो गयी. गोलीबारी में चार घर क्षतिग्रस्त हो गए. बाद में, गोलीबारी बंद होने के बाद, दो मारे गए आतंकवादियों के शवों की खोज शुरु कर दी गई. Stone-pelting और सेना के साथ मुठभेड़ की घटनाओं को देखते हूऐ अधिकारियों ने शुक्रवार को बारमूला और बन्निहल शहरों के बीच रेल सेवा के निलंबिन की घोषणा भी की  वास्तव में ये एक Precautionary Measure था.

क्या आतंवादियों का खात्मा नहीं हो सकता हैं ? और होगा तो वों कब?. क्यों नहीं सरकार अपनी रणनीति में बदलाव ला रही हैं?. कब करेगी?. जब मासूम लोगों के साथ-साथ सरकारी कर्मचारियों को भी मार दिया जाएगा तब?.

प्रमुख बिंदु :-

  • कश्मीर में हुआ भाजपा नेता पर हमला.
  • आतंवादियों ने सुरक्षा कर्मियों से हथियार छिनने का किया गया प्रयास.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here