अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद ने भारत लौटने की पेशकश कह डाली ये मांग थाने में एक मजिस्ट्रेट की अदालत ने बताया था कि भगोड़ा गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम ने भारत लौटने की पेशकश की हैं. लेकिन उसकी पेशकश ये हैं की Authorities उन्हें आर्थर जेल में बंद करे. और उनसे कोई पूछताछ नहीं की जाए.रिपोर्ट की माने तो ” एक जबरन वसूली मामले में दाउद के छोटे भाई Iqbal Kashkar का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ वकील श्याम केसवानी ने कहा.”वास्तव में, उन्होंने अपने इरादे को स्पष्ट रूप से वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी को व्यक्त किया हैं. लेकिन सरकार ने उनकी शर्त स्वीकार करने से इनकार कर दिया हैं. आज तक दाऊद को गिरफ्तार नहीं किया गया.

ठाणे पुलिस ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आर वी थमडेकर के अदालत में Kashkar को पेश किया गया था

ठाणे पुलिस ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट आर वी थमडेकर के अदालत में Kashkar को पेश किया गया था.ठाणे की पुलिस  कचरा-जबरदस्ती इकाई कासकर और उसके भाइयों दाऊद और अनीस ने मीरा रोड बिल्डर को धमकी देने के लिए कहा.मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) ने एक हल्का नोट पर कश्मीर से पूछा कि क्या उन्हें कोई भय है और अपने दूसरे परिवार के सदस्यों के बारे में पता है और उन्हें पुलिस के साथ जानकारी साझा करनी चाहिए.

 अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद ने भारत लौटने की पेशकश कह डाली ये मांग कास्कर की  प्रतिक्रिया एक संक्षिप्त ‘नहीं’ थी. सीजेएम ने तब Kashkar से पूछा कि क्या उन्होंने हाल में दाऊद से बात की थी. अदालत मे एक पल के लिए Kashkar चुप हो गए. Kashkar ने कहा कि वह अपने भाई के स्थान के बारे में नहीं जानते थे. कस्कर ने हालांकि, कहा कि उन्होंने मोबाइल फोन पर दाऊद से बात की, लेकिन उनकी संख्या कभी प्रदर्शित नहीं हुई थी और इसलिए उन्हें अपने ठिकाने के बारे में पता नहीं था.

इस समय, Kashkar के वकील केस्वानी ने खड़ा होकर अदालत से कहा कि दाऊद भारत वापस लौटना चाहते हैं. जेठमलानी ने सरकार को यह जानकारी दी है. केशवानी ने कहा कि 2003 में दुबई से Kashkar को निर्वासित किए जाने के बाद. उन्हें अदालत के सामने ले जाया गया. यह तब की बात हैं  जब कानून प्रवर्तन एजेंसी को कास्कर की पहचान के बारे में पता चला था.

ये हैं प्रमुख बिंदु:-

  • अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद की पेशकश.
  • आर्थर जेल मे रखा जाये.
  • सरकार ने किया इंकार.

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here