जिन्दगी बहुत लम्बी होती है इसे जीने के लिए किसी के साथ की जरूरत होती है. जो आपसे हमेशा प्यार करे हमेशा आपका साथ निभाए. जीवन के इस सफ़र में हम कभी ना कभी नए रिश्ते में बंधते हैं. रिश्ता किसी ना किसी वादे या अपेक्षा को अपने साथ लाता हैं और इसको निभाने की जिम्मेदारी हम पर होती है. कभी-कभी वक्त के साथ हमारे रिश्तों का रंग फीका पड़ जाता है. प्यार में कमी लगने लगती है लगता है कुछ बदल सा गया है. आपको हमेशा ही सच्चे प्यार की तलाश रहती है आपको कोई ना कोई मिल तो जाता है पर आप समझ नहीं पाते की आप उससे सच्चा प्यार करते है या सामने वाला आपसे सच्चा प्यार करता है और आपका इसे ना समझ पाना आपके लिए ही गलत हो सकता है.

हो सकता है आपके इस रिश्ते में प्यार और अपनापन हो जिसे आप समझ नही पा रहे हो और अपका रिश्ता धुंधला पड़ रहा हो जिसे आप बचाना चाह रहे हो. सच्चे प्यार को पहचानने के लिए आपके पास हमेशा ऐसे संकेत होते हैं जो आपको अपने प्यार से मिलवाने में हमेशा आपकी मदद करते है. बस आपको इन्हें पहचानना है.

प्यार में आपस में कुछ लेने देने की भावना

आपको पता है जब आप किसी से प्यार करते हैं तो आपके मन में उससे कुछ लेने की भावना नहीं होती है. हालाँकि आपका उसे कुछ देना आपका निःस्वार्थ भाव है. अगर आप और वो निस्वार्थ होकर एक-दुसरे को कुछ देते हैं और उसकी क़द्र करते हैं. पर हो सकता है कि वापिसी में आपको वो ना मिले जितना आपने दिया. पर आपको किये गए कामों को और अपनी दी हुई चीजों को गिनना नहीं चाहिए या जताना नहीं चाहिए की आपने ऐसा दिया और बदले में ये मिला. तो अगर आप या आपका पार्टनर ऐसा नहीं करते तो आप एक दुसरे से सच्चा प्यार करते हैं.

उनके साथ रहने पर आप खुश हों

अगर उनके सामने आते ही आपके चेहरे पर मुस्कान आ जाये. आप उनके खुश होने पर ही खुश रहें, और उनके सामने रहने पर आप आपनी सारी समस्याओं को भूल जायें तो यही सच्चे प्यार के लक्षण हो सकते हैं. अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो आपको एहसास होगा की सामने वाला आपके लिए कितना जरुरी है आपके लिए कितना महत्वपूर्ण है. उसके होने से ही आप खुश रहेगें. तो अगर आप या आपका पार्टनर एक दुसरे के साथ खुश है तो आप एक दुसरे से सच्चा प्यार करते हैं.

दर्द देने पर भी

जब कोई अपना हमे तकलीफ पहुंचाता है तो हमे बहुत दर्द होता है. पर हम उन पर गुस्सा नहीं निकाल पाते हैं. हम उनसे नफरत करने का तो सोच भी नहीं पाते हैं. कुछ देर के लिए आप चिडचिडे हो सकते हैं पर फिर वापिस से आपको लगता है की नहीं यार मेरी ही कोई गलती होगी वो ऐसा मेरे साथ नहीं कर सकता या कर सकती. कितना भी बुरा होने पर आपका दिल यकीन नहीं करेगा की उसने ऐसा आपके साथ किया. आप फिर भी उसी ओर खिंचे चले जाते हो वो आपसे माफ़ी भी ना मांगे तब भी अपनी ओर से उन्हें माफ़ कर देते हो. तो अगर आप या आपका पार्टनर ऐसा करते है तो वे आपसे सच्चा प्यार करते हैं.

उन पर सब कुर्बान

अगर आप अपना सब कुछ उन्हें देने की सोच रखते हैं तो आप उनसे सच्चा प्यार करते हैं. क्योंकि बिना प्यार के आप अपना कुछ किसी को नहीं देते हैं. अक्सर हम लोगों को अपने परिवार के लिए सब कुछ देते हुए देखते हैं. तो आप अपने परिवार से प्यार करते हैं तभी अपना कुछ उन्हें देतें हैं. जीवन में हर कोई सब कुछ पाना चाहता है अपना कुछ किसी को देना नहीं चाहता ऐसे में आप या आपका पार्टनर एक दुसरे को सबकुछ देने के लिए तैयार हैं तो आप सच्चे प्यार में हैं. क्योंकि कुर्बानी प्यार में ही दी जा सकती है बाकि तो सब अट्रैक्शन है.

रिश्ते को बचाने कि कोशिश

आप किसी भी रिश्ते को देख लें लड़ाई झगडे होते ही हैं. क्योंकि दो लोगों की सोच कही ना कही नहीं मिलती है और उनमे तनाव पैदा हो जाता है. और ये तनाव गुस्से में जब निकलता है तो इससे लड़ाई हो ही जाती है. फिर भी अगर आप या पका पार्टनर इन रिश्तों में पड़ी गांठ को सुलझाता है या कोशिश करता है. तो इससे आपका रिश्ता और भी गहरा हो जाता है. अगर आप एक दुसरे को नहीं मनायेगें तो इससे दूरियां बढ़ती चली जाएँगी और अगर आप इन्हें मिटाना चाहते हैं तो सामने वाले को कैसे भी करके मन लें आपके द्वारा या उसके द्वारा की गयी कोशिश ही सच्चे प्यार की निशानी है.

 उन्हें चोट ना पहुंचाएं

प्यार में आप अपने अपनों को चोट पहुंचाने का सोच भी नहीं सकते ऐसे में अगर आपस में आप एक दुसरे को चोट पहुंचाते है तो शायद यह प्यार नहीं है. चोट फिर चाहे शारिरिक हो या मानसिक क्योंकि जो प्यार करता है वो आपको चोट नहीं पंहुचा सकता है. अगर आप या आपका पार्टनर इस बात की हद से ज्यादा परवाह करते हैं की सामने वाले को चोट ना पहुंचे तो यह भी सच्चे प्यार का एक संकेत है.

कोई वादा कभी ना तोडें

हमने अक्सर देखा है की प्यार करने वाले एक दुसरे के साथ जीने-मरने की कसमें खाते हैं. पर उनमे से निभाते कितने हैं ये तो जान पाना मुश्किल है. अगर आप भी कोई कसम या वादे को तोड़ते हैं या आपका पार्टनर या करता है तो ये सच्चे प्यार की निशानी नहीं है आपको हमेशा आपका वादा टूटने का डर हो, जो आपको विचलित करता रहे या आप उस वादे को टूटने से बचाने की कोशिश करते हैं तो समझ जायें आप सच्चे प्यार में हैं. वादों को निभाने पर एक दुसरे पर आपका भरोसा बढ़ता है. भरोसा ही विवाहित जीवन की पहली नींव होती है.

 ‘हम’ का रिश्ते में महत्व

रिश्तो को निभाना किसी अकेले का नहीं दो लोगों का काम है. अगर आप सोचते है की ये रिश्ता आप अकेले चला रहे है तो आप गलत हैं. उसमे सामने वाला भी उतना भी महत्व रखता है जितना कि आप जब भी आप किसी के लिए कुछ करते हैं तो उसको जताते हो. फिर जब आप किसी के साथ हो तो आप बोलते हो की मैंने ऐसा किया, मैंने वैसा किया तो आप सुन लीजिये आप उससे प्यार नहीं करते जिसको आप ये जताते हो. क्योंकि आपने नहीं दोनों ने उस रिश्ते लिए कुछ ना कुछ किया है. और अगर आप में की जगह यह बोलते हो की हम ऐसा करेंगे हम मिलके वैसा करेंगे तो आप जरुर सामने वाले से या सामने वाला आपसे सच्चा प्यार करता है.

एक दुसरे के दुखों को बाँटना

हमेशा हमारे कुछ अपने दोस्त रिश्तेदार परिवार वाले हमेशा हमारे साथ होते हैं जिनसे हम बेझिझक कुछ भी बोल देते हैं और आपने मन को हल्का कर लेतें हैं. पर कभी कभी जाने क्यों हम अपनी सारी परेशानी दुःख दर्द एक ऐसे सख्स को बता देंते हैं जिनका उन बातों से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं है. पर वो आपके सारे दुःख दर्द को ऐसे अपनाता है जैसे उसके खुद के हों वो आपको किसी न किसी रूप में मदद करता है जितना उससे हो सकता है. इससे साफ है की वो आपको दुखी नहीं देख सकता है वो आपकी बहुत परवाह करता है. तो जान लो भैया वो आपसे सच्चा प्यार ही करता है जो वो आपके लिए ऐसा करता है.

ईर्ष्या दिखाना

आपके मुहं से किसी और का नाम निकलना ही उनकी चिडचिडाहट का कारण हो किसी और की बात करने पर ही उनका मूड ख़राब कर दे ये चिढन ही उनका प्यार है. जब भी वे आपके किसी ऐसे रिश्ते जो आपके पास्ट रिलेशन से जुड़ें हो या आपके उस रिश्ते से जिनसे उन्हें फर्क पड़ता हो उनका नाम सुनना और उनका झ्न्झुलाना ही प्यार है. वे आपके साथ रह के खुश रहते है सुरक्षित महसूस करते है आप उनके पास रहे तो उनके हाव भाव बदलते देख सकते है तो समझ जाईये की आपसे बहुत कुछ एक्स्पेक्ट करते हैं और आपसे सच्चे प्यार में है.

यही छोटी बड़ी बातें हैं जो सच्चे प्यार कि निसानी है इनको अपने या अपने पार्टनर के अन्दर देखे और उसे कभी ना छोड़ें जो इन बातों का ध्यान रखता है या आपके लिए करता है. वही आपसे सच्चा प्यार करता है. और वही आपका सच्चा प्यार है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here